Thursday, September 25, 2008

μ - पोस्ट!



माइक्रो पोस्ट !!
ज्ञान जी के " मानसिक हलचल " पर देखा और ये बहुत बढ़िया लगा ..चलिए ..

" ॐ !! "
( इत्ता ही आज ॥ ;-) ये पूर्ण शब्द है और ब्रह्म भी है !!

27 comments:

दिनेशराय द्विवेदी said...

ऊँ
उलटा क्यों है?

Harshad Jangla said...

Kuch samaz nahin paye!!!

-Harshad Jangla
Atlanta, USA

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

दिनेश भाई जी,
यही चित्र बँगाल से सँबँधित देखा था और सेव कर लिया था
हर्षद भाई, माइक्रो पोस्ट मतलब एकदम छोटी बात लिये पोस्ट !
हाज़िर है -
सिर्फ एक शब्द = ॐ
Compelete By ITSELF !!
- लावण्या

Harshad Jangla said...

Thank you Didi.

-Harshad Jangla

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

दिनेश भाई जी,
सीधा ॐ भी लगा दिया है :)

Unknown said...

ऊँ को उलटकर गणेश भगवान की छवि लायी गयी है। प्रणाम है उन्‍हें।
लावण्‍या दी, लोकस्‍ट और सिकाडा के बीच का अंतर नहीं बताया? इस विषय में मैं अपनी जानकारी बढ़ाना चाहता हूं।

Udan Tashtari said...

:)


(μ - माईक्रो टिप्पणी)

Anil Pusadkar said...

नमः शिवाय

ताऊ रामपुरिया said...

प्रणाम ! शायद आपने और आदरणीय ज्ञानदत जी ने माइक्रो की शुरुआत
कर दी है ! शुभकामनाएं !

दिनेशराय द्विवेदी said...

गणपति ने हमें भी दर्शन दिये। अब ठीक है उलटा भी चलेगा।

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

दिनेश भाई जी,
अब आपने इतना आभार कर सीधा ॐ भेजा है तब ष्री गणेष जी को नमन करते हुए,
सीधा ॐ भी लगा दिया है :)
आपसे अनुरोध है कि, कभी समय मिले तब ॐ पर पोस्ट अवश्य लिखियेगा ~~
स स्नेह, सादर,
- लावण्या

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

अशोक भाई, जी,
सीकाडा और लोकस्ट के बीच क्या फर्क है उस पर अभी तक जानकारी विश्वस्त सूत्रोँ से पता नहीँ कर पाई हूँ ..खैर, खोजने की कोशिश जारी है और पता लगा तब अवस्य सूचित करुँगी ..आपकी टीप्पणी का बहुत बहुत आभार !
स स्नेह, सादर,
- लावण्या

Abhishek Ojha said...

नमो भगवते वासुदेवाय !

राज भाटिय़ा said...

अजी सीधा हो या उलटा हमारे लिये तो पुजनिया हे, दुसरी बार जब भी ऊं कहता हु तो अपने पिता जी का नाम भी ले लेता हूं, मेरे लिये तो सारी दुनिया ही छुपी हे इस ऊं मे फ़िर सीधा हो या उलटा
धन्यवाद, बहुत अच्छा लगा,

Gyan Dutt Pandey said...

वाह, ओमकाएअ में जबरदस्त सिनर्जी है - अंतर्मन और विश्व का एकाकार। और वह माइक्रो पोस्ट से निखर आया है!
आपके क्रियेटिव सेंस को नमस्कार।

अनूप शुक्ल said...

μ

Ghost Buster said...

सुंदर.

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...

अहा...!

rakhshanda said...

sundar...pyaara

डॉ .अनुराग said...

μ

pallavi trivedi said...

ॐ....ॐ....ॐ...

mamta said...

अति सुंदर !

दिवाकर प्रताप सिंह said...

ॐ नमः सिद्धम्...

डॉ .अनुराग said...

देखिये इस पोस्ट का जवाब नही .फ़िर पढने आ गया....

पारुल "पुखराज" said...

:) ॐ jay ho

Smart Indian said...

हरि ऊँ तत्सत!

प्रशांत मलिक said...

"μ - पोस्ट!"
pe :) tippni