Saturday, October 18, 2014

आकर्षण करोति इति श्रीकृष्ण

ॐ 
हरी भक्ति गंगा 
~~~~~~~~~~~~~~~~
आकर्षण करोति इति श्री कृष्ण 
कालो वा कारणम राज्ञो 
नमो भगवते तस्मै 
नारायणं नमस्कृत्यम
नारायणं सुरगुरुं जग्देकनाथं 
सत्यम सत्यम पुन: सत्यम II
   वामन पुराण में महाविष्णु नारायण के स्वरूप का वर्णन है I ईश्वर के विविध आयुध जो वे सदैव ग्रहण किये रहते हैं उनमे से एक सुदर्शन चक्र भी है I इसे कालचक्र भी कहते हैं I सुदर्शन चक्र छ: नुकीले नोकों वाला तीक्ष्ण आयुध हैI जिसके छ : विभक्त भाग छ : ऋतुओं के द्योतक हैं I 
१२ निहित हिस्से १२ देवताओं, अग्नि, सोम, मित्र, वरुण इंद्र, इन्द्राग्नी, वायु, विश्वदेव, प्रजापति व धन्न्वंतरी इत्यादि का प्रतिनिधित्व करते हैं I चक्र का मध्य भाग वज्र धातु से बना है जिसके गुण हैं भृवि माने समता,
भग माने तेज, 
निर्देश माने गति और सम्पदा ! सुदर्शन चक्र की हर नोक पर " सहस्त्रात हुं फट " अक्षर लिखे हुए हैं I विभिन्न कोणों में नारी शक्तियों का निवास है जिसका वर्णन इस प्रकार है ..
१ ) योगिनि - शक्ति क्रिया जो परिपूर्ण है 
२ ) लक्ष्मी - लक्ष्य प्राप्ति की शक्ति जो परम सत्य का                    द्योतक है।  
३ ) नारायणी - सर्वत्र व्याप्त महाशक्ति 
४ ) मुर्धिनी - मस्तिष्क रेखा से रीढ़ की हड्डी तक व्याप्त शक्ति 
५ ) रंध्र - ऊर्जा की वह गति जो सूक्ष्मतर होती रहती है वह 
६ ) परिधि - ' न्र ' शक्ति का स्वरूप 
७ ) आदित्य - तेज जो कि प्रथम एवं अंतहीन है 
८ ) वारूणी -चतुर्दिक व्याप्त जल शक्ति जिस के कारण सुदर्शन की गति अबाध है 
९ ) जुहू - व्योम स्थित तारामंडल से निस्खलित अति सूक्ष्म , ज्योति शक्ति व गति 
१० ) इंद्र - सर्व शक्तिमान 
११ ) नारायणी - दिग्दिगंत तक फ़ैली हुई पराशक्ति ऊर्जा या कुंडलिनी शक्ति 
१२ ) नवढ़ा - नव नारायण , नव रंग, नव विधि की एकत्रित शक्ति  स्वरूप ऊर्जा 
१३ ) गंधी - जो पृथ्वी तत्व की भांति चलायमान है 
१४ ) महीश - महेश्वर में स्थित आदि शक्तियाँ 
Maha Sudarshan Jaap & Yagya

आकार : सुदर्शन चक्र का व्यास सम्पूर्ण ब्रह्मांड तक व्याप्त होकर उसे ढँक सकने में समर्थ है और इतना सूक्ष्म भी हो सकता है कि, वह एक तुलसी दल पर भी रखा जा सकता है I
सुदर्शन प्रयोग व् महत्ता  : 
१ ) गोवर्धन परबत उठाने के प्रसंग में श्री कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत के नीचे सुदर्शन चक्र को आधार बना कर रखा था I
२ )  शिशुपाल का वध इसी सुदर्शन चक्र से किया गया था I 
३ ) जयद्रथ वध के समय सुदर्शन चक्र का प्रयोग सूर्य को ढँक कर सूर्यास्त करने में हुआ था I

४ ) अर्जुन ने जो दीव्यास्त्र महाभारत युध्ध के समय प्रयुक्त कीये उन बाणों के घने आवरण को श्रीकृष्ण ने सुदर्शन चक्र  आधार देकर उन्हें अभेध्य कर दीये थे I 
५ ) राजा अम्बरीष पर दुर्वासा ऋषि क्रोधित हुए तब श्रीकृष्ण ने, विष्णु रूप से दुर्वासा ऋषि पर सुदर्शन चक्र से प्रहार किया था I 
६ ) नाथ सम्प्रदाय के परम तेजस्वी  महागुरु गोरखनाथ जी ने अपनी शक्ति से 
     सुदर्शन चक्र को स्तंभित कर दिया था I 
सामवेद में उल्लेख किया गया है कि, जब आहत और अनाहत ऊर्जा तरंगें 
एक साथ बहने लगतीं हैं उन्हें ' वासुदेव ' कहते हैं I 
श्रीकृष्ण : श्रावण अष्टमी को श्रीकृष्ण का प्रादुर्भाव हुआ था I श्री कृष्ण के मामा कंस ने अपनी बहन देवकी व जीजा वसुदेव जी को कारागार में कैद कर रखा था उसी काल कोठडी में आंठवें पुत्र रूप में परमात्मा नारायण ने या माहाविष्णु ने श्रीकृष्ण स्वरूप में आगमन किया था I 
राजा उग्रसेन व उनकी महारानी पवनकुमारी को एक दानव से कंस पैदा हुआ था I इस आसुरी सता का अन्य पापात्माओं सहित नाश करने के लिए ही ईश्वर का धरती पर पूर्ण अवतार रूप में एवं  जगत का उद्धार करने के लिए , संतों को सुख पहुंचाने के लिए, श्री हरि का  आगमन हुआ I  पिता वासुदेव  बाबा ने मध्य रात्रि में आंधी तूफ़ान और बरखा  बौछारों के बीच बालक कृष्ण को यमुना पार करवा कर नन्द जी  भारी ह्रदय से छोड़ दिया था। 
 
    महात्मा गर्ग ऋषि ने वासुदेव की दुसरी पत्नी रोहिणी व देवकी के पुत्रों का नामकरण किया I ज्येष्ठ भ्राता बलराम आदिशेष के अवतार हुए और नन्हे बाल कृष्ण ! रोहिणी जी व नवजात शिशुओं  को वासुदेव जी,  मध्य रात्रि में ही जन्म पश्चात , नन्द लाला जी व माता यशोदा जी के घर छोड़ आये थे I माता देवकी अपने पुत्र कृष्ण के वियोग में विलाप करतीं कारागृह में ही रहीं I नन्द बाबा का ग्राम जहां पवित्र  गौएं चरा करतें थीं वह भूभाग अति पवित्र  ' व्रजभूमि ' कहलाता है I  व्रजभूमि में कयी दानवों के वध की अलौकिक कथा लीला श्रीकृष्ण द्वारा की गईं थीं I 
       श्रीकृष्ण की बाल लीलाओं के प्रसंगों में से जो माताओं को अति प्रिय है वह है मिट्टी खाना ! 
जब मैया यशोदा ने श्री कृष्ण को मिट्टी खाते देखा तब हठात कान्हा का मुख खुलवाया उस समय श्रीकृष्ण के मुखमंडल में माता यशोदा सम्पूर्ण ब्रह्मांड को घूमता हुआ देखकर अवाक रह गईं और मूर्च्छित हो गईं थी I yashoda and little krishna
            एक और प्रसंग है जहां कंस ने अदभुत पराक्रमी बालक कृष्ण को पकड़ने के हेतु से अपने सैनिक व गुप्तचर भेजे थे तब बृज के कई  गोप बालकों  ने श्रीकृष्ण की तरह अपने शीश पर ' मयूरपंख ' धारण कर लिया ताकि गुप्तचरों को ' मयूर पंख धारी बाल कृष्ण ' की पहचान ही न होने पाए कि ,
 कृष्ण कौन है ! 
            अन्य प्रसंगों में श्रीकृष्ण का चाणूर को मुष्ठीयुध्ध द्वारा वध करने से वे ' चाणूर मर्दनम ' कहलाये हैं तथा आगे असुर वक्रदन्त को गदा युध्ध से हराने का भी उल्लेख है I  
     पूतना वध , तृणाव्रत का वध , दूध भरी मटकी की बैलगाड़ी को उलट देना , फल बेचनेवाली के फल लेकर माई को धान के कण देना जो रत्नों  में बदल गये थे, माखन चोरी कर माखन को गोप बालकों के संग बाँट कर खाना और जब गोपियाँ शिकायत लेकर माँ यशोदा के घर पहुंचतीं हैं तब बाल कृष्ण घर के भीतर से निर्दोष रूप में निकल कर आते हैं इत्यादी कई लीलाएं, बाल कृष्ण रूप में कान्हा ने कीं थीं और समस्त बृज वासियों को महाआनंद का  रस पान करवाया थाI 
           पावन यमुना जी  का जल श्रीकृष्ण के सानिंध्य से पवित्र हो उठा और कालिया मर्दन लीला कर कान्हा ने दूषित जल को स्वच्छ किया और प्रकृति के हर तत्त्व को निर्मल कर दिया थाI गोवर्धन परबत के नीचे ब्रज के नर नारियों को मूसलाधार वर्षा एवं इंद्र के कोप से रक्षा प्रदान कर श्री कृष्ण ने पर्यावरण की सुरक्षा का पाठ आधुनिक युग  से बहुत पहले ही समाज के सामने एक महत्वपूर्ण मुद्दे की तरह उपस्थित किया थाI 
            शाल और तोशाल को , कंस द्वारा शासित मथुरा नगरी में  मल्ल युध्ध में परास्त किया तब कंस ने वासुदेव व नन्द बाबा को कैद कर उनके वध का आदेश दिया और उसी समय श्रीकृष्ण ने कंस के राज सिंहासन पर कूद कर कंस पर प्राणान्तक प्रहार किया कंस की गर्दन मरोड़ कर , कार्तिक शुक्ल दसमी के दिवस क्रूर आत्मा कंस  का वध किया था I कंस के नौ लघु भ्राताओं ने कृष्ण बलराम पर हमला किया परंतु उन्हें भी मृत्यु प्राप्त हुईI  
       कंस वध पश्चात , राजा उग्रसेन को पुनह मथुरा नरेश बनाया गया और माँ देवकी व वासुदेव जी को मुक्त किया गया उस समय श्रीकृष्ण १८ वर्ष के थे I
           गर्गाचार्य ने श्रीकृष्ण - बलराम का यज्ञोपवीत संस्कार संपन्न कियाI तद्पश्चात उन्हें ऋषि सांदीपनी कश्यप के आश्रम में विद्याभ्यास के लिए प्रस्थान करते देख कर माता देवकी और यशोदा मैया के नयनों में अश्रु का ज्वार उमडा था I 
      सांदीपनी ऋषि ने धनुर्विद्या , वेदाभ्यास, धर्म, नीति शास्त्र  की शिक्षा से उन्हें पारंगत किया और श्रीकृष्ण ने कई नये आयुधों  की रचना भी  वहीं आश्रम में की थी जिसमे ' सुदर्शन चक्र ' भी है I
         ऋषि पुत्र पूर्णदत्त का अपहरण होने पर और नाग वंश की कुंवरी से विवाहित होने पर सांदीपनी उदास रहने लगे तब श्रीकृष्ण ऋषि पुत्र को आश्रम लौटा लाये और गुरु देव को प्रसन्न किया था I 
     वासुदेव जी के भाई देवभागा के पुत्र थे उद्धव !  जो कृष्ण के अनन्य सखा थे I मगध नरेश जरासंध ने अपने दामाद कंस की मृत्यु का बदला लेने, मथुरा पर आक्रमण किया तब यशोदा माई व गोप गोपियों की कुशल पूछने के लिए उद्धव को कृष्ण द्वारा, वृन्दावन  भेजा गया था I 
        दूसरी ओर अक्रूर जी को विदुर व मौसी कुंती  के पुत्र पांच पांडवों के कुशल क्षेम के लिए हस्तिनापुर भेजा गया था और धृतराष्ट्र ने अक्रूर जी को बतलाया कि वे कौरवों को मनमानी करने से रोक नहीं पाते हैंI इसी घटनाओं के आगे महाभारत की गाथा भी श्री कृष्ण के संग आगे बढती हैI महासमर के आरम्भ से पूर्व श्री कृष्ण ने अभूतपूर्व ' गीता ज्ञान ' दे कर अपने प्रिय सखा अर्जुन को ' कर्म का मर्म ' समझाया था और अंत में ' विराट स्वरूप ' के दर्शन दे कर स्वयं के ईश्वरतत्व की पुष्टी की थी I जय जय श्री कृष्ण ! 
Krishna and Arjuna at the Battlefield of Kurukshetra
- लावण्या  दीपक शाह 

Saturday, September 20, 2014

सुश्री देवी नागरानी जी

ॐ 
आदरणीया देवी नागरानी जी मेरी बड़ी बहन हैं। वे एक बेहतरीन रचनाकार , ग़ज़लगो , कहानीकार , अनुवादक और एक सजग समर्पित साहित्यकार एवं भारतीय भी हैं यह उनकी बहुमुखी प्रतिभा का मिलाजुला स्वरूप है।  बड़ी हैं और साहित्य मर्मज्ञ भी इस कारण वे मेरे लिए सदैव प्रेरणा का स्त्रोत रहीं हैं। यह  उनके स्नेह से आगे चलकर और अधिक सिंचित व पल्ल्वित हुआ।  
 अब बीते दिनों को याद करूँ तो, उनसे मेरी सर्व प्रथम मुलाक़ात, विश्व प्रसिद्ध संस्था यूनाइटेड नेशनसँ के मुख्य सभागार, न्यू यॉर्क शहर में आयोजित अष्ठम हिन्दी अधिवेशन के दौरान हुई थी। पूज्य देवी जी को सामने से चलकर आते हुए देखा ,  उन का लिखा बरबस आँखों के सामने कौंध उठा। 
 “न बुझा सकेंगी ये आंधियां ये चराग़े‍‍ दिल है दिया नहीं” 
    और 
दर्दे दिल की लौ ने रौशन कर दिया सारा जहाँ  
इक अंधेरे में चमक उट्ठी कि जैसे बिजिलियाँ  "       लौ दर्दे दिल की ' देवी बहन का प्रथम ग़ज़ल संग्रह है।
डा मृदुल कीर्ति जी सुश्री देवी नागरानी जी के लिए कहतीं हैं ,
लौ दर्दे – दिल की '
शब्द सादे भाव गहरे,  काव्य की गरिमा मही,
‘लौ दर्दे दिल की’ संकलित, गजलों में ‘देवी’ ने कही
न कोई आडम्बर कहीं, बस बात कह दी सार की,
है पीर अंतस की कहीं,  पीड़ा कहीं संसार की.
आघात संघातों की पीड़ा, मर्म में उतरीं घनी, उसी आहत पीर से ‘लौ दर्दे-दिल की’ गजलें बनीं .
जीवन-दर्शन को इतनी सहजता और सरलता से कहा जा सकता है, यह ‘देवी’ जी की लेखन शैली से ही जाना. जैसे किसी बच्चे ने कागज़ की नाव इस किनारे डाली हो और वह लहरों को अपनी बात सुनाती हुई उस पार चली गयी हो. कहीं कोई पांडित्य पूर्ण भाषा नहीं पर भाव में पांडित्य पूर्ण संदेशं हैं. क्लिष्ट भावों की क्लिष्टता नहीं तो लगता है, मेरे अपने ही पीर की बात हो रही है और मैं इन पंक्तियों में जीवंत हो जाती हूँ . जब पाठक स्वयं को उस भाव व्यंजना में समाहित कर लेता है, तब ही रचना में प्राण प्रतिष्ठा होती है.
देवी जी के ही शब्दों में —–
करती हैं रश्क झूम के सागर की मस्तियाँ
पतवार बिन भी पार थी कागज की कश्तियाँ .
यह  ‘ दर्दे दिल की लौ’  उजाला बनने को व्याकुल है , सबके दर्द समेट लेने चाहत ही किसी को सबका बनाती है,  परान्तः-सुखाय चिंतन ही तो परमार्थ की ओर वृतियों को ले जाती हैं और शुद्ध चिंतन ही चैतन्य तक जीव को ले जाता है. औरों के दर्द से द्रवित और उन्हें समेट लेने की चाह में ही,’ मालिक है कोई मजदूर कोई, बेफिक्र कोई मजबूर कोई.’ संवेदना कहती है ‘ बहता हुआ देखते है सिर्फ पसीना, देखी है कहाँ किसने गरीबों की उदासी’ . ठंडे चूल्हे रहे थे जिस घर के, उनसे पूछा गया कि पका क्या है’ यह सब पंक्तियाँ देवी जी के अंतस को उजागर करतीं हैं.  वे सारगर्भित  मान्यताओं  की भी पक्षधर है कि व्यक्ति  केवल अपने कर्मों से ही तो उंचा होता है. ‘ भले छोटा हो कद किरदार से इंसान ऊँचा हो, उसी का जिक्र यारों महफ़िलों में आम होता है’ .
जीवन के मूल सिद्धांतों के प्रति गहरी आस्था है, सब इनका पालन क्यों नहीं करते इसकी छटपटाहट है, साथ ही यथार्थ से भी गहरा परिचय रखतीं है तब ही तो लिख दिया 
‘ उसूलों पे चलना जो आसान होता,
जमीरों के सौदे यकीनन ना होते,
कसौटी पे पूरा यहाँ कौन ‘देवी ‘
 जो होते, तो क्यों आइने आज रोते’.
सामाजिक, सांप्रदायिक , न्यायिक  और  राजनैतिक दुर्दशा के प्रति आक्रोश है, धार्मिक मान्यताओं के प्रति उनके उदगार नमन के योग्य हैं.’ वहीँ है शिवाला, वहीँ एक मस्जिद , कहीं सर झुका है, कहीं दिल झुका है.’पुनः है जहॉं मंदिर वहीँ है पास में मस्जिद कोई , साथ ही गूंजी अजाने , शंख भी बजते रहे. न्यायिक व्यवस्था के प्रति आक्रोश है. तिजारत गवाहों की जब तक सलामत क्या इन्साफ कर पायेगी ये अदालत.
भारतीयता,  हिंदी  देश प्रेम, वतन और शहीदों के प्रति रोम-रोम से समर्पित भावनाएं उन्हें प्रणम्य बनाती है. " 
देवी नागरानी एक प्रबुद्ध व्यक्तित्व है, बुद्ध का अर्थ बोध गम्यता. इस मोड़ पर जब चिंतन वृत्ति आ जाती है तो सब कुछ आडम्बर हीन हो जाता है, भावों को सहजता से व्यक्त करना एक स्वभाव बन जाता है. कितनी सहजता है, ‘ यूँ तो पड़ाव आये गए लाख राह में, खेमे कभी भी  हमने लगाए नहीं कहीं’ . वे मानती हैं कि  अभिमान ठीक नहीं पर स्वाभिमान की पक्षधर हैं, ‘ नफरत से अगर बख्शे कोई, अमृत भी निगलना मुश्किल है , देवी शतरंज है ये दुनिया,  शह उससे पाना मुश्किल है’ 
- डा मृदुल कीिर्ति 
 फिर आगे , ' चराग़े दिल ' से देवी जी के ग़ज़लों की खुशबु गुलाब की पंखुड़ियों सी सारी साहित्य की दिशाओं को और फ़िज़ां को महकाने लगीं। देवी जी की एक और किताब  ' “चराग - दिल”  का भारतीय विदेश राज्य मंत्री श्री आँनंद शर्मा ने अपने हाथों से  ८ वें हिन्दी अधिवेशन में , विमोचन किया था।
लेखिका सुश्री इला प्रसाद जी के शब्दों में सुनिए ,
 ' चरागे दिल देवी नांगरानी का हिन्दी में पहला ही गजल संग्रह है जिसके माध्यम से उन्होंने बतला दिया है कि उनकी लेखनी का चराग बरसों बरस जलता रहने वाला है। उनकी सोच का फ़लक विस्तृत है और उनकी गजलें जीवन के तमाम पहलुओं को छूती हैं। उन्होंने औरों के काँधों पर चढ़कर विकास नहीं किया। वे अपने पैरों से चली हैं , जिन्दगी की धूप – बारिश झेली है और आग में तप कर निकली हैं। उन्हीं के शब्दों में, " कोई नहीं था ‘देवी’ गर्दिश में मेरे साथ बस मैं, मिरा मुकद्दर और आसमान था। " जब जीवन-डगर कठिन हो और मन सम्वेदनशील, तो अभिव्यक्ति का ज़रिया वह खुद ढूढ़ लेता है। इस संग्रह में ढेरों ऐसी गजले हैं जो पाठकों को अपनी अनुभूतियों के करीब लगेंगी। आज चाहे देवी जी कहती हों कि “शोहरत को घर कभी भी हमारा नहीं मिला” 
- इला प्रसाद
अब सुनिए डा॰ अंजना संधीर का देवी जी के बारे में  ,
सिंधी का लहजा और मिठास उनकी जुबान में है। न्यूयॉर्क के सत्यनारायण मंदिर में कवि सम्मेलन- २००६  में अपने कोकिल कंठ से जब उन्होंने गजल सुनाई तो महफिल में सब वाह-वाह कर उठे। किसी की फरमाइश थी कि वे सिंधी की भी गजल सुनाएँ और तुरंत एक गजल का उन्होंने हिंदी अनुवाद पहले किया और सिंधी में उसे गाया। सब लोगों को देवी की गजल ने मोह लिया। तो ये थी मेरी देवी से रूबरू पहली मुलाकात। हमने एक दूसरे को देखा न था, बस बातचीत हुई थी। मेरी कविता पाठ के बाद वो उठकर आईं, मुझे गले लगाया और बोलीं- 
 ' अंजना, मैं तुम्हें मिलने ही इस कवि सम्मेलन में आई हूँ।  ' 
 समर्पण, निर्मल मन, भाषा के लगाव का परिणाम आपके सामने है ' चिरागे दिल। 
 देवी आध्यात्मिक रास्तों पर चलने वाली एक शिक्षिका का मन रखने वाली कवयित्री हैं, इसलिए उनकी गजलों में सच्चाई और जिंदगी को खूबसूरत ढंग से देखने का एक अलग अंदाज है। उनकी लेखनी में एक सशक्त औरत दिखाई देती है जो तूफानों से लड़ने को तैयार है। गजल में नाजुकी पाई जाती है, उसका असर देवी की गजलों में दिखाई पड़ता है। उदाहरण के तौर पर देखिए-
 ‘भटके हैं तेरी याद में जाने कहाँ-कहाँ, तेरी नजर के सामने खोए कहाँ-कहाँ। " अथवा
 ‘न तुम आए न नींद आई निराशा भोर ले आई, 
तुम्हें सपने में कल देखा, उसी से आँख भर आई। " अथवा 
" उसे इश्क क्या है पता नहीं, कभी शमा पर वो जला नहीं। " 
‘देवी की गजलों में आशा है, जिंदगी से लड़ने की हिम्मत है व एक मर्म है जो दिल को छू लेता है। ' 
डा॰ अंजना संधीर   
Charage-Dil


श्री गणेश बिहारी “तर्ज़” लखनवी साहिब ने ‘चराग़े-दिल’ के लोकार्पण के समय श्रीमती देवी नागरानी जी के इस गज़ल-संग्रह से मुतासिर होकर बड़ी ही ख़ुशबयानी से उनकी शान में एक कत्ता स्वरूप नज़्म तरन्नुम में सुनाई थी। 

लफ्ज़ों की ये रानाई मुबारक तुम्हें देवी

रिंदी में पारसाई मुबारक तुम्हें देवी

फिर प्रज्वलित हुआ ‘चराग़े‍-दिल’ देवी

ये जशने रुनुमाई मुबारक तुम्हें देवी.

 अश्कों को तोड़ तोड़ के तुमने लिखी गज़ल

पत्थर के शहर में भी लिखी तुमने गज़ल

कि यूँ डूबकर लिखी के हुई बंदगी गज़ल

गज़लों की आशनाई मुबारक तुम्हें देवी

ये जशने रुनुमाई मुबारक तुम्हें देवी.

 शोलों को तुमने प्यार से शबनम बना दिया

एहसास की उड़ानों को संगम बना दिया

दो अक्षरों के ग्यान का आलम बना दिया

‘महरिष’ की रहनुमाई मुबारक तुम्हें देवी

ये जशने रुनुमाई मुबारक तुम्हें देवी.

- श्री गणेश बिहारी “तर्ज़” लखनवी

  देवी जी के ग़ज़ल संग्रह ,हिन्दुस्तानी और  सिंधी दोनों भाषाओं में प्रकाशित हो चुके हैं। अंग्रेज़ी, हिन्दी, उर्दू  और सिंधी जैसी  सभी भाषाओं में देवी जी सिध्धहस्त हैं। वर्षों से सृजन प्रक्रिया में देवी जी व्यस्त रहीं हैं। इस वर्ष  दिनांक १२ अप्रैल, २०१४ को चाँदीबाई हिम्मतलाल मनसुखानी कॉलेज में देवी नागरानी के सिन्धी कहानी संग्रह अपनी धरती का लोकार्पण समारोह सम्पन्न हुआ।

13. Pahinji Dharti 

सुश्री देवी नागरानी के अनुदित कहानी संग्रह “बारिश की दुआ” में भारत के अनेक प्रान्तों से स्थापित १७  कहानीकरों की कहानियाँ हिन्दी से सिन्धी भाषा में अनुवाद की हुई हैं। पुस्तक का स्वरूप सिंधी अरबी लिपि में है।

Baarish Ki Dua दिनांक-रविवार ९  जून २०१३  सीता सिंधु भवन, सांताक्रूज, मुम्बई के एक भव्य समारोह में सुश्री देवी नागरानी के अनुदित कहानी संग्रह “बारिश की दुआ” का लोकार्पण संपन्न हुआ। 



अनेक साहित्यकारों पर देवी जी ने मार्मिक कथन लिखा है जैसे साथी स्व श्री मरीयम गज़ाला, 
स्व श्री महावीर जी तथा लंदनवासी  ग़ज़लकार श्री प्राण शर्मा ,पिंगलाचार्य श्री महरिष जी, 
श्री जीवतराम सेतपाल जी , सुश्री सुधा ढींगरा , डा अंजना संधीर इत्यादी। 
अपने साथी रचनाकारों की प्रशंशा में देवी जी मुखर रहीं हैं  और उनके साहित्यिक अवदान के प्रति देवी जी सदैव सचेत रहतीं हैं। 
           मुम्बई हो या अमरीका का पूर्व में बसा न्यू जर्सी शहर हो या मध्य अमरीका का शिकागो शहर हो या कि पश्चिम अमरीका कैलीफोर्निया का मिलटीपास शहर हो उन्होंने की साहित्य सभाओं में शिरकत करते हुए सफल यात्राएं संपन्न कीं हैं। 
 चित्र  में देवी जी व अन्य साहित्यकार  मिल्टीपास केलिफोर्निया में - 
Cali-1सुदूर नॉर्वे हो या गोवा रायपुर या  जयपुर ,अजमेर या अमदावाद , या फिर  बेलापुर हो या  तमिलनाडु  ! देवी जी ने विभिन्न मंचों से अपनी रचनाओं का स स्वर पाठ किया है और श्रोताओं और साहित्यकारों ने उन्हें सुना और सराहा है। लिंक http://sindhacademy.wordpress.com2013. april Ajmer
             अखिल भारत सिंधी बोली प्रचार सभा की और से देवी नागरानी जी की ' भजन - महिमा ' पुस्तक का लोकार्पण संत शिरोमणि युधिष्ठिर लाल जी हस्ते संपन्न हुआ। देवी जी गाती बहुत बढ़िया हैं।  भजन हों या गीत ग़ज़ल या कविता उनके स्वर में ढलकर हर रचना , श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करतीं रहीं हैं और सभा में, वाहवाही लूट लेतीं हैं। उदाहरणार्थ , शुक्रवार दिनांक ९  नवम्बर २०१२ , रवीद्र भवन मडगांव, गोवा में ‘अस्मिता’ कार्यक्रम सुबह १०  बजे से दो बजे तक सफलता पूर्ण सम्पन्न हुआ वहां देवी नागरानी  जी ने (सिन्धी) भाषा का प्रतिनिधत्व किया। 
Sahity Setu Sanmaan
साहित्य सेतु सन्मान 
तमिलनाडू हिन्दी अकादमी एवं धर्ममूर्ति राव बहादुर कलवल कणन चेट्टि हिन्दू कॉलेज, चेन्नई के संयुक्त तत्वधान में आयोजित विश्व हिन्दी  दिवस एवं अकादमी के वर्षोत्सव का यह भव्य समारोह (१०  जनवरी २०१३  में देवी जी का सन्मान हुआ )  श्रीमती देवी नागरानी ग़ज़ल के विषय में ख्यालात कुछ इस तरह हैं -- 
  कुछ खुशी की किरणें, कुछ पिघलता दर्द आँख की पोर से बहता हुआ, कुछ शबनमी सी ताज़गी अहसासों में, तो कभी भँवर गुफा की गहराइयों से उठती उस गूँज को सुनने की तड़प मन में जब जाग उठती है तब कला का जन्म होता है।  सोच की भाषा बोलने लगती है, चलने लगती है, कभी कभी तो चीखने भी लगती है। यह कविता बस और कुछ नहीं, केवल मन के भाव प्रकट करने का माध्यम है, चाहे वह गीत हो या ग़ज़ल, रुबाई हो या कोई लेख, इन्हें शब्दों का लिबास पहना कर एक आकृति तैयार करते हैं जो हमारी सोच की उपज होती है। ” दर्दे दिल की लौ ने रौशन कर दिया सारा जहाँ, इक अंधेरे में चमक उट्ठी कि जैसे बिजिलियाँ "
रचनाकार देवी जी के कहानी संग्रह संस्कार सारथी संस्थान ट्रस्ट, राज॰ के तत्वधान में पुस्तक लोकार्पन एवं साहित्यकार सन्मान समारोह में  सन्मान   समारोह में  दिनांक-मंगलवार, १२  मार्च २०१३  गांधी शांति प्रतिष्ठान में एक भाव्य समारोह को अंजाम दिया गया।  सुश्री देवी नागरानी के अनुदित कहानी संग्रह “और मैं बड़ी हो गई” का लोकार्पण संपन हुआ  और अक्षर शिल्पी सन्मान से उन्हें नवाजा गया।
     साहित्य के प्रति देवी नागरानी जी के विविध आयामी  योगदान को देखते हुए  सं २०१४ इसी वर्ष दिनांक रविवार ३१  अगस्त २०१४  अखिल भारत सिंधी बोली एवं साहित्य प्रचार की ओर से ११२  सेमिनार -“साहित्य व साहित्यकार " के तहत , जानी मानी नामवर लेखिका व शायरा देवी नागरानी पर यह सेमिनार आयोजित हुआ।
31 Ag-2014  
photo 4            
भारतीयता, साहित्यिक मनोभूमि, सर्व लोक उथ्थान के निर्मल भाव से ओतप्रोत देवी जी के उदगार सुनिए ,

' हमें अपनी हिंदी ज़ुबाँ चाहिये

सुनाए जो लोरी वो माँ चाहिये

कहा किसने सारा जहाँ चाहिये

हमें सिर्फ़ हिन्दोस्ताँ चाहिये

तिरंगा हमारा हो ऊँचा जहाँ

निगाहों में वो आसमाँ चाहिये

मुहब्बत के बहते हों धारे जहाँ

वतन ऐसा जन्नत निशाँ चाहुये

जहाँ देवी भाषा के महके सुमन

वो सुन्दर हमें गुलसिताँ चाहिये ' 

देवी जी के शब्दों में बसी तमाम उम्र भर की सच्चाई उनकी ग़ज़लों में यूं मुखरित हुई है , 

' यूं उसकी बेवफाई का मुझको गिला न था

इक मैं ही तो नहीं जिसे सब कुछ मिला ना था.

लिपटे हुए थे झूठ से कोई सच्चा न था

खोटे तमाम सिक्के थे, इक भी खरा न था '  

देवी जी ने साहित्य की हरेक विधा में सृजन किया है। देवी जी का लिखा  एक सुन्दर हाइकु प्रस्तुत है , ' श्रम दिव्य है  , जीवन सुँदर ये , मंगल धाम '

 देवी जी ने साहित्यकार साथियों की पुस्तकों पर  सशक्त एवं निष्पक्ष समीक्षाएं भी लिखीं हैं। सामसायिक हिन्दी व अन्य साहित्य पर उनकी पैनी नज़र रहती है। यहां प्रस्तुत चित्र में अमेरिका के प्रवासी भारतीयों के हिन्दी साहित्य में हिन्दी कविता संगोष्ठी में अपना व्यक्तव्य पढ़ते हुए 

देवी जी~

Pravsi Sahity par alekh padhteडा अंजना संधीर द्वारा संपादित एवं प्रकाशित पुस्तक ' प्रवासिनी के बोल ' एक अनोखा प्रयास इस कारण रहा चूंकि इस पुस्तक में तमाम प्रवासिनी साहित्यकाराओं के उदगार संगृहीत हैं।  देवी जी ने इस पुस्तक में कई साथी रचनाकाराओं पर अपने विचार लिखे हैं।  मेरे लिए उनका लिखा मेरे मिए मनोबल को सुदृढ़ करनेवाला पाथेय है , बड़ी बहन के स्नेह रूपी वाक्यों का प्रसाद ही समझती हूँ। 
 ' हिन्दी के सुप्रसिद्ध साहित्यकार पं॰ नरेंद्र शर्मा जी की सुपुत्री लावण्या शाह जो Cincinati-Ohio में रहती हैं। लावण्या जी को पढ़ते ही लगता है जैसे हम अपने आराध्य के सामने मंदिर में उपस्थित हुए हैं, सब कुछ अर्पित भावना को लेकर उनके साथ कह रहे हैं—-           
ज्योति का जो दीप से /मोती का जो सीप से /वही रिश्ता मेरा, तुम से !                   
 प्रणय का जो मीत से /स्वरों का जो गीत से /वही रिश्ता मेरा, तुम से !                             
 गुलाब का जो इत्र से /तूलिका का जो चित्र से /वही रिश्ता मेरा, तुम से !                          
 सागर का जो नैय्या से /पीपल का जो छैय्याँ से /वही रिश्ता मेरा, तुम से !      
- लावण्या शाह       
किसी ने खूब कहा है ‘कवि और शब्द का अटूट बंधन होता है, कवि के बिना शब्द तो हो सकते हैं, परंतु शब्द बिना कवि नहीं होता। लावण्या जी की शब्दावली का गणित देखिये कैसे सोच और शब्द का तालमेल बनाए रखता  है। '
- देवी नागरानी 
प्रवासिनी के बोल की समीक्षा पर अधिक विस्तार से  इस लिंक पर  : http://charagedil.wordpress.com/2012/03/
भारतीय भाषा संस्कृति संस्थान–गुजरात विध्यापीठ अहमदाबाद में देवी नागरानी का काव्य पाठ अवसर  
(संस्थान के निर्देशक श्री के॰ के॰ भास्करन, प्रोफेसर निसार अंसारी (Urdu Dept),
 मुख्य मेहमान देवी नागरानी, डॉ॰ अंजना संधीर)
न्यू जर्सी, अमेरिका की प्रवासी साहित्यकार देवी नागरानी को ग़ज़ल लेखन के लिए १६-१७ फरवरी को देश की महत्वपूर्ण साहित्यिक संस्था सृजन-सम्मान द्वारा ' सृजन-श्री '  से अलंकृत किया गया । उन्हें सम्मानित किया   धर्मयुग, नवभारत टाइम्स के पूर्व संपादक व वर्तमान में नवनीत के संपादक, विश्वनाथ सचदेव, वरिष्ठ आलोचक व प्रवासी साहित्य विशेषज्ञ कमलकिशोर गोयनका जी ने !  
 उत्तरप्रदेश के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष व वरिष्ठ साहित्यकार केशरीनाथ त्रिपाठी दिनांक १३ मार्च, २०१० रविवार सिन्धी नव वर्ष “चेटी चाँद” के अवसर पर फिल्म “जय झूलेलाल” का उद्घाटन उत्सव एवं देवी नागरानी के सिन्धी काव्य संग्रह “मैं सिंध की पैदाइश हूँ ” का लोकार्पण समारोह संपन्न हुआ !"
सिंध की मैं पैदाइश हूँ  का विमोचन  नोर्वे में  ( Indo-Norwegian Informaion and Cultural फोरम) के मंच पर  स्वतंत्रता दिवस एवं टैगोर जयंती के मनाया गया। 
नार्वे की लेखक गोष्ठी में देवी नागरानी जी सम्मानित हुईं। 



 आप ये ना समझियेगा कि सुश्री देवी नागरानी जी की साहित्य यात्रा का रथ रूका है या थमा है।  आज भी देवी नागरानी के जहन में अनेक सुन्दर गीत , मधुर गज़लें और गीत लहरा रहे हैं और पाठकों को रसपान करवाने को आतुर हैं।  ऐसी कर्मठं साहित्य सेवी , मिलनसार तथा आज भी नया देखने, सुनने और समझने को सदा सजग रहतीं, मेरी बड़ी बहन सुश्री देवी नागरानी जी को मेरे स्नेह एवं अादर पूर्वक नमस्कार ! उनकी साहित्य सृजन प्रक्रिया अबाध गति से आगे बढ़ती रहे यह  मेरी विनम्र  शुभकामनाएं भी सहर्ष प्रेषित करती हूँ।  
 - श्रीमती लावण्या दीपक शाह 
  सिनसिनाटी , ओहायो प्रांत 
  उत्तर अमरीका 
ई मेल : Lavnis@gmail.com

Monday, September 8, 2014

छन्द और वैदिक काल

छन्द और वैदिक काल



 श्री गुरुदत्तजी की लिखी एक पुस्तक है  –” वेद और वैदिक काल ” उसमेँ  छन्द क्या थे ? ' इस पर उन्होंने प्रकाश डाला है । 
” कासीत्प्रमा प्रतिमा किँ निदानमाज्यँ किमासीत्परिधि: 
क आसीत्` छन्द: किमासीत्प्रौगँ किँमुक्यँ यद्देवा देवमजयन्त विश्वे ” 
जब सम्पूर्ण देवता परमात्मा का यजन करते हैं तब उनका  स्वरुप क्या था ?
 इस निर्धारण और निर्माण मेँ क्या पदार्थ थे ? उसका घेरा कितना बडा था ? 
वे छन्द क्या थे जो गाये जा रहे थे ? वेद इस पूर्ण जगत का ही वर्णन करते हैँ । 
कहा है कि, जब इस जगत के दिव्य पदार्थ बने तो छन्द उच्चारण करने लगे। 
 वे ” छन्द ” क्या थे?
” अग्नेगार्यत्र्यभवत्सुर्वोविष्णिहया सविता सँ बभूव अनुष्टुभा 
सोम उक्थैर्महस्वान्बृहस्पतयेबृँहती वाचमावत् विराण्मित्रावरुणयोरभिश्रीरिन्द्रस्य 
त्रिष्टुबिह भागो अह्ण्: विश्वान्देवाञगत्या विवेश तेन चाक्लृप्र ऋषयो मनुष्या: “  ऋ: १० -१३० -४, ५
                                       अर्थात उस समय अग्नि के साथ गायत्री छन्द का सम्बन्ध उत्पन्न हुआ। उष्णिता से सविता का और 
ओजसवी सोम से अनुष्टुप व बृहसपति से बृहती छन्द आये। विराट छन्द , मित्र व वरुण से, दिन के समय, त्रिष्टुप इन्द्रस्य का विश्वान्देवान से 
सन्पूर्ण देवताओँ का जगती छन्द व्याप्त हुआ । उन छन्दोँ से ऋषि व मनुष्य ज्ञानवान हुए जिन्हे ” यज्ञे जाते” कहा है।  
 यह सृष्टि रचना के साथ उत्पन्न होने से उन्हेँ ” अमैथुनीक ” कहा गया है।
                                इस प्रकार वेद के ७ छन्द हैँ शेष उनके उपछन्द हैँ। उच्चारण करनेवाले तो  देवता थे परन्तु वे मात्र सहयोग दे रहे थे।  
तब प्रश्न उठता है सहयोग किसे दे रहे थे  ? उत्तर है,  परमात्मा को ! 
                      उनके समस्त सृजन को ! ठीक उसी तरह जैसे, हमारा मुख व गले के “स्वर  यन्त्र ” आत्मा के कहे शब्द उच्चारते हैँ 
 उसी तरह परमात्मा के आदेश पर देवताओँने छन्दोँ का उच्चारण किया।
             जिसे सभी प्राणी भी तद्पश्चात बोलने लगे व हर्षोत्पाद्क अन्न व उर्जा को प्राप्त करने लगे। इस वाणी को ” राष्ट्री ” कहा गया। 

 जो शक्ति के समान सब दिशा मेँ , छन्द – रश्मियोँ की तरह तरलता लिये फैल गई । राष्ट्री वाणी तक्षती, एकपदी, द्विपदी, चतुष्पदी, अष्टापदी, नवपदी रूप पदोँ मेँ कट कट कर आयी।  अब प्रश्न  है कहाँ से आयी ये दिव्य वाणी  ? तो उत्तर है , वे सहस्त्राक्षरा परमे व्योमान् से ही आविर्भूत हुईं।

(साभार – लावण्या दीपक शाह)

Thursday, August 28, 2014

' कॉफी विथ कुश '

' कॉफी विथ कुश '
[ कुश जी हिन्दी ब्लॉगर हैं और राजस्थान के निवासी हैं। ' कॉफी विथ करण जौहर ' की तर्ज़ पर, हिन्दी ब्लॉगरों का इंटरव्यू ले कर ' 
कुश ने एक नई श्रृंखला आरम्भ की थी। कुछ वर्ष पूर्व कॉफी विथ कुश '  में हम भी बुलाये गए थे। पेश हैं कुश के प्रश्न और लावण्या शाह के उत्तर !]
Q. कैसा लग रहा है आपको यहा आकर ? 
   A. जयपुर के गुलाबी शहर मेँ , हम ,कुश जी के सँग, कोफी पी रहे हैँ ..तो " सेलेब्रिटी ' जैसा ही लग रहा है जी !
   आपसे रुबरु होने का मौका मिला है ~ शुक्रिया !
Q. सबसे पहले तो ये बताइए ब्लॉग्गिंग में कैसे आना हुआ आपका ?
  A. " Blogging " is like "sitting in the  " Piolet's Seat .. &  flying the plain solo ..
         मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ -
       एक दिन रात का भोजन, निपटा कर , मैँ ,  कम्प्युटर पर सर्फ़ कर रही थी और गुगल पे ' ब्लोग ' बनाने की सूचनाएँ पढते हुए
        मैँने मेरा प्रथम ब्लोग " अन्तर्मन "   बना दिया।  वह पहला ' ब्लॉग '  अँग्रेज़ी मेँ था। और तभी से ," सोलो प्लेन"  समझिये,
           " इन ट्रेँनीँग" - सीखते हुए, चला रहे हैँ :-)
        Q.  हिन्दी ब्लॉग जगत में किसे पढ़ना पसंद करती है आप ?
       A. मैँने प्रयास किया था इस पोस्ट मेँ कि जितने भी जाल घरोँ का नाम एकत्रित करके यहाँ दे सकूँ - वैसा  करूँ -
    अब कोई नाम अगर रह गया हो तो क्षमा करियेगा।  पर मुझे सभी का लिखा पसँद है सिवा उसके
    जो पढनेवाले का दिल दुखा जाये ~ बाकि कई नये ब्लोग पर रोचक और ज्ञानवर्धक सामग्री भी मिल ही जातीँ हैँ। 
    सभी को मेरी सच्चे ह्र्दय से , शुभ कामनाएँ दे रही हूँ।  स्वीकारियेगा !
     कृपया, ये लिन्कॅ देखेँ ~
Q. हिन्दी ब्लॉग जगत की क्या खास बात लगी आपको ?
  A. हिन्दी ब्लोग जगत मेरे भारत की माटी से जुडा हुआ है।  कई सतहोँ पर! जहाँ आपको मनोरँजन भी मिलेगा, ज्ञानपूर्ण बातेँ भी, राजनीति से      लेकर, शब्दोँ की व्युत्त्पति या खगोल शास्त्र, पर्यटन, सदाबहार नगमे, या नये गीत, एक से एक बढकर गज़ल, शायरी, गीत और नज़्म, व्यँग्य, विचारोत्तेजक लेख etc एक छोटे से कस्बे मेँ जीता भारत या विदेश का कोई कोना,  यादेँ, सँस्मरण ,  सभी कुछ पढने को मिल जाता है। 
जो नावीन्य से भरपूर होता है।  जिसका मूल कारण है व्यक्ति की स्वतँत्रता और अनुभवोँ को दर्शाने की आज़ादी ! जिसे सामाजिक स्वतंत्रता के तहत हम अंग्रेज़ी में कहें तो ' Freedom of expression ' है। यह एक लोकताँत्रिक विधा है।  यही ब्लोग की प्राण शक्ति है और उस मेँ समायी उर्जा है। 
Q. क्या आप किसी कम्यूनिटी ब्लॉग  भी लिखती है?
   A.  नहीँ तो ...ये अफवाह किसने उडायी ? :)
Q. आपके बचपन की कोई बात जो अभी तक याद हो ?
   A. हुम्म्म ................. मैँ बम्बई पहुँच गई हूँ......
       खयालो के धुन्ध मेँ, दीखलाई देती है ३ साल की एक नन्ही लडकी , शिवाजी पार्क की भीड भाड मेँ , शाम के धुँधलके मेँ ! अब लोग घर वापस    जाने के लिये, पार्क के दरवाजोँ से बाहर यातायात के व्यस्त वाहनोँ के बीच से रास्ता ढूँढते निकल लिये हैँ और ये लडकी , अपने आपको अकेला,   असहाय पाती है।  घर का नौकर शम्भु, भाई बहनोँ को लेकर, कहीँ भीड मेँ ओझल हो गया है और अपने को अकेला पाकर, जीवन मेँ पहली बार
 बच्ची को डर का अहसास हुआ है।  पूरी शक्ति लगाकर इधर उधर देखते हुए बिजली की खँभा दीखाई पडता है उसी को अपने नन्हे हाथोँ को फैला,
   कस के पकड लेते ही आँखोँ मेँ आँसू आ जाते हैँ और उसे देख,  २ नवयुवक ठिठक कर रुक जाते हैँ और पूछते है, 
    " बेबी, क्या तुम घूम गई हो ?  अकेली क्यूँ हो ? " थर्र्राते स्वर मेँ, अपनी ढोडी उपर किये स्वाभिमान से उत्तर देती हुई वो कहती है,
        " मैँ नहीँ हमारा शम्भु भाई घूम गया है ! "  और वह  ३ बरस की नन्ही कन्या, मैँ ही थी :-)
     ईश्वर कृपा से वे दोनोँ युवक, मेरे रास्ता बताने से , मुझे घर तक छोड गये और दरवाजा खुलते ही,
     " अम्मा .." की पुकार करते ही अम्मा की गोद मेँ , मैँ फिर सुरक्षित थी !
     और उन दोनोँ युवकोँ ने, अम्मा को,  खूब डाँटा था और अम्मा ने उनसे माफी माँगते खूब अहसान जताया था। 
    आज सोचती हूँ अगर मैँ घर ना पहुँची होती तो ?!
 Q. कॉलेज के दिनो की कोई बात ?
    A. आहा ...यौवन के दिन भी क्या दिन होते हैँ !! भविष्य का रास्ता, आगे इँद्रधनुष सा सतरँगी दीखलाई देता है। 
    - अजाना, अनदेखा, अनछुआ -- रोमाँच मिश्रित भय से और आशा की किरणोँ से लिपटा, नर्म बादलोँ की गाडी मेँ बैठे, दुनिया की सैर करने को     उध्यत!  एक नये अहसास को हर रोज सामने ले आनेवाला समय,  जो हर किसी के जीवन मेँ ऐसे आता है कि जब तक कि कोई उसको परखेँ, वो बीत    भी जाता है ! अगर बचपन के दिन सुबह हैँ तो कोलिज के दिन मध्याह्न हैँ। 
   एक दिन कोलिज मेँ अफघानिस्तान से आये एक शख्स ' नूर महम्मद ' ने मेरी सहेली रुपा के लिये, दूसरे लडके को, कोलेज के बाहर सडक पर,
  चाकू से घायल कर लहू लुहान कर दिया था।  हम लडकियाँ सहम गईँ थीँ। इस का असर ये हुआ कि घर गई तब १०१ * ताप ने मुझे आ घेरा !
                       दूसरे दिन एक मित्र जिसका नाम अनिल था और वो सबसे सुँदर था। उसका दोस्त आया और बतलाया कि अनिल ने खुदकुशी कर ली !
  शायद उसके पर्चे ठीक नहीँ गये थे और फेल होने की आशँका से उसने ऐसा कदम उठाया था।  ये दोनोँ किस्से मुझे आज तक भूलाये नहीँ भूलते !
 युवावस्था और कॉलेज के दिन अब बीत गए परन्तु  कविता में यादें शेष हैं।  ' वह कॉलेज के दिन ' कविता का लिंक ~ 
Q. जीवन की कोई अविस्मरणिय घटना ?
   A. मेरी पहली सँतान बिटिया सिँदुर का ९ वाँ महीना चल रहा था।  उसे हमने शाम के खाने पे बुलाया तो वो सेल फोन से नर्स को पूछ रही थी 
   " क्या मैँ मेरा फेवरीट शो देखने के बाद वहाँ आ सकती हूँ ? "  नर्स ने कहा "नहीँ जी, फौरन आओ"  !
         दूसरे दिन हम भी वहाँ गये उसे लेबर पेन चल रहा था और मैँ प्रभु नाम स्मरण करते जाप कर रही थी।  मन मेँ एक डर था कि अभी नर्स     या डाक्टर आकर कहेँगेँ कि हम इसे ओपरेशन के लिये ले जा रहे हैँ। परँतु, सुखद आश्चर्य हुआ जब हेड नर्स ने हम से कहा, 
   " आप लोग बाहर प्रतीक्षा कीजिये। अब समय हो रहा है " हम बाहर गये और मानोँ कुछ पल  मुस्कुराती हुई वो लौट आई और कहा 
    " अब आप लोग आ सकते हैँ "  भीतर सिँदुर थी और मेरा नाती " नोआ"=  Noah  था। उस सध्यस्नात,  नवजात शिशुको हाथोँ मेँ उठाया तो वह     पल मुझे मेरे जीवन का सबसे अविस्मरीणीय पल लगा। 
 Q. अपने परिवार के बारे में बताइए  ?
   A. मेरे परिवार मेँ हैँ , मेरी बिटिया सिँदुर, दामाद ब्रायन, नाती नोआ और बेटा सोपान और बहु मोनिका देव मेरे पति दीपक और मैँ !
 Q. ब्लॉगिंग से जुड़ा कोई दिलचस्प अनुभव ?
   A .  हम जब ब्लोगिँग करते हैँ तब निताँत एकाँत मेँ, अपने विचारोँ को Key Board / की बोर्ड के जरिये ,
       खाली पन्ने पे उजागर करते हैँ।  उसके बाद आपका लिखा कौन , कहाँ पढता है इस पे आपका कोई अधिकार नहीँ। 
      इस नजर से ये सर्व जन हिताय हो गया। - एक पोस्ट श्रध्धेय अमृतलाल नागर जी ( मशहूर कथाकार हैँ ) 
    उन के पापाजी पे लिखे सँस्मरण को पोस्ट करने से पहले, उन पे नेट पर सामग्री ढूँढते , "रीचा नागर" के बारे मेँ पता चला। 
       और सँपर्क हुआ जिसकी खुशी है। रिचा साहित्यकार श्री अमृतलाल नागर जी की धेवती है। 
   और कवि प्रदीपजी वाली पोस्ट को उनकी बिटिया ने पढकर मुझे ई मेल से संपर्क किया था उसकी भी खुशी है। 
Q आप ही की लिखी हुई आपकी कोई पसंदीदा रचना ?
   Aसुनिये ~~
 रात कहती बात प्रियतम,
  तुम भी हमारी बात सुन लो,
थक गये हो, जानती हूँ,
प्रेम के अधिकार गुन लो !
है रात की बेला सुहानी,
इस धरा पर मनुज की,
नीँद से बोझिल हैँ नैना,
नमन मैँ प्रभु,नुज की,!
रात कहती है कहानी,
थी स्वर्ग की शीतल कली,
छोड जिसको आ गये थे-
उस पुरानी - सखी की !

रात कहती बात प्रियतम !
तुम भी सुनो, मैँ भी सुनुँ !
हाथ का तकिया लगाये,
पास मैँ लेटी रहूँ !
 Q.  पसंदीदा फिल्म ? क्यो पसंद है ? 

A. " मुगल - ए - आज़म "  मेरी पसँदीदा फिल्म है।  मधुबाला दिलीप कुमार, पृथ्वीराज कपूर दुर्गा खोटे और अन्य सभी सह कलाकारोँ का उत्कृष्ट अभिनय, नौशाद साहब का सुमधुर , लाजवाब सँगीत और एक से बढकर एक सारे गाने, वैभवशाली चित्राँकन, कथा की नायिका की मासूमियत और खूबसुरती जो उसके जीवन का अभिशाप बन गई और अनारकली का त्याग ! प्रेम के लिये आत्म समर्पण !  बहुत सशक्त भावोँ को जगाते हैँ। 
बस्स वही सब पसँद है ~~
Q. पसंदीदा पुस्तक ? क्यो पसंद है ?
 A. वैसे तो लम्बी लिस्ट है ..पर सच मेँ " सुँदर काँड " मेँ चमत्कारी शक्ति है ! हनुमान जी का सीता मैया को राक्षस राजा रावण की 
अशोक वाटीका मेँ खोजना और पाप का नाश और सत्य पर विजय हमेशा नई आशा का सँचार करता है ~
 और एक पुस्तक है " शेष - अशेष " मेरे पापाजी पर बहुत सारे सँस्मरणात्मक लेखवाली ..
 उसे पढते समय , अक्सर, पढ़ते हुए बीच में छोड देती हूँ क्यूँकि ..आँसू आ ही जाते हैँ उनकी और अम्मा की यादेँ तीव्र हो उठतीँ हैँ। 
 Q. अपनी बीती हुई ज़िंदगी में अगर कुछ बदलने का मौका मिले तो क्या बदलना चाहेंगे आप ? 
 A. कोई ऐसा मौका हाथ से जाने नहीँ दूँगीँ जब , किसी दुखी या लाचार और हताश मानव के लिये कुछ कर ना पायी ...
आज आप हँस बोल लो , कल क्या हो किसे पता है ?
 Q. ब्लॉगिंग के लिए इतना वक्त कैसे निकाल पाती है आप
 A. घर के काम शीघ्रता से करने की आदत हो गई है अब और काफी समय , जितना वक्त है उसे , सही तरीके से
 उपयोग मेँ लाने की कोशिश करती हूँ और हाँ, यहाँ ( अमेरिका मेँ ) बिजली कम ही जाती है :-)
घर मेँ , आधुनिक उपकरण ही ज्यादातर काम पूरा करते हैँ .. पर,  खाना, अब भी ,  मैँ ही बनाती हूँ ! क्यूँके ,
अभी ऐसा कोई "रोबोट= यँत्र मानव " मिला ही नहीँ !! :-))
 Q. बचपन में कितनी शरारती थे आप ? कोई शरारत ? 
A. जी हाँ शरारती तो थी ही, छोटे भाई बहनोँ को कहानी सुनाती तो बाँध कर एक जगह पे बैठाये रखती थी :) 
हमारे सामने एक आँटीजी आग्रा से रहने बम्बई आयीँ थीँ।  वे रोज ही सिनेमा देखने चल देतीँ थीँ हम लोग उन्हेँ "ठमको आँटी " प्राइवेट मेँ बुलाते थे ना जाने एक दिन क्या सूझी कि उनके घर कुँकु से लिपटा नारीयल, फूल और डाकू भैँरोँ सिँह के नामवाली चिठ्ठी  छोड  आये ... 
खत का मजमूँ था ...."घर मेँ रहा करो नहीँ तो तुम्हारे जान की खैर नहीँ ! "
आँटीजी ने पुलिस बुलवाने का उपक्रम किया तब जाकर अम्मा के सामने डाकूओँ ने आत्म समर्पण कर दिया था !! 
 एक और बात याद है बचपन के दिनों की - ओलिम्पिक खेल की मशाल की देखा देखी, सारे मित्रोँ को पेन्सिल पकडावा के बाग के बीच लगे पीले गेँदे के फूलोँ की क्यारियोँ के इर्दगिर्द , कई सारे चक्कर लगवाये थे हम गा रहे थे, "मेरे इरदगिर्द शागिर्द "....
और उन सब को कहना होता था,  " अग्नि गोल  ..अग्नि गोल "
कुछ देर बाद सब ने कहा " ये कैसी रेस है जी जहाँ गोल घूमते पसीने से तर हमेँ कोई मेडल भी नहीँ मिल रहा " ...
आज बरसोँ बाद ये शैतानियाँ याद आयी और  नादानियोँ पे हँसी आ रही है ~~