Monday, September 18, 2017

एक पल : सर्वनाश से पहले (अंतरिक्ष नाटक) - लावण्या शाह

एक पल : सर्वनाश से पहले(अंतरिक्ष नाटक) - लावण्या शाह
पात्र: 
सूत्रधार
तीन साहसी बच्चे- 
तूफान टक्कर (तूफान)
लाल लगाम (लाली)
छोटा राजा
खलनायक-
पाताल पापी
तीन वैज्ञानिक-
डा शिव
डा गिरधर
डा बूमक
एक सिपाही
(धरती की भीतरी सतह का दृश्य)
(सूत्रधार) - तूफान टक्कर, विल स्कारलेट और छोटा राजा धरती के भीतरी कोर में कैद हैं और एक बम, इस उपग्रह को विनाश के रास्ते ढकेलने के लिये आगे बढ रहा हैं।

पाताल पापी : "होशियार! यह छोटा विमान।

लाल लगाम : एक बात पक्की है, जिस किसीने भी हमें यहाँ पर बुलवाया है, वो हमसे मिलने नहीं आया। अरे! यहाँ पर तो सारा वीराना ही वीराना है।

तूफान टक्कर : (चौंक कर) "मैं सोच रहा हूँ कि कैसे..." (फिर चौंकता है) "अरे! संभलो।"
पाताल पापी : इस भूगर्भ में, आपका स्वागत है! (बात जारी रखते हुये) आशा है कि आपकी यात्रा सफल रही!"

तूफान टक्कर : आप कौन हैं?"

पाताल पापी: मैं, इस भूगर्भ का मालिक कहलाता हूँ!"

तूफान टक्कर: (स्वत: सोच में) भूगर्भ का मालिक?? यह नाम तो कुछ जाना-पहचाना सा लगता है!

पाताल पापी: "आप खामखाँ मेरी तारीफ कर रहे हैं!"

तूफान टक्कर: "याद आया! तुम्ही तो वे छाँटे हुए पागल इन्सान हो, जिसने, इस पृथ्वी को हथियाना चाहा था! पर जब तुम्हारी क्रान्ति निष्फल हो गयी तब तुम नदारद हो गये! अच्छा, अब यहाँ डेरा जमाये हो!"

पाताल पापी: (गुस्से से आवाज ऊँची हो जाती है) पागल, और मैं? सब मेरी जान के पीछे पड़ गये थे और मुझे इस भूगर्भ में आना पडा। पर मैं बदला लेकर ही रहूँगा।"

तूफान टक्कर : "अच्छा, यह बात है। बदला किस तरह से लोगे भला?"

पाताल पापी : (दुष्ट सी मुस्कान लिये) "आओ! बतलाता हूँ तुमने मॅग्नियम धातु का नाम तो सुना होगा? चम्मच भर मग्नियम एक पूरे शहर का विनाश कर सकता है। इस ग्रह से, एक छोर पर, मैंने, इस धातु का एक विशाल जत्था मौजूद पाया है हाँ इतना सारा है कि यह पूरा सौर मंडल धूल में मिल जाएगा। मुझे इस खनिज मग्नियम से धमाका लगाने भर की देर थी "

तूफान टक्कर : "और वे गुमशुदा वैज्ञानिक! एक एक अणु शक्ति विस्फोट के क्षेत्र में, कमाल हासिल किये हुये "

पाताल पापी: "बिलकुल सही याद किया। वे मेरी बात मानने पर राजी ही नहीं थे। इसीलिए, उनका सारा ज्ञान, इस कम्प्यूटर में, कैद कर लिया है। बस अब मुझे इसे तोड देने की शृंखला को, बटन दबाकर कर, शुरू करना पडेगा ! और सब खत्म और जब यह सुइयाँ, १२ के आँकडे पर पहुँचेंगी, तब इस धरती का विनाश हो जायेगा...हा...हा...हा...हा..."

तूफान टक्कर : "और साथ-साथ, तुम्हारा भी।"

पाताल पापी: "क्यों क्या मुझे सौ प्रतिशत पागल समझ रखा है? यह छोटी रेल देख रहे हो ना, वह मुझे धरती की ऊपरी सतह तक और वहाँ से ऊपर अंतरिक्ष की ओर ले चलेगी।"

तूफान टक्कर : ( अपने साथियों से) "हमें किसी भी तरह बच निकलना है!"

लाल लगाम : तुम्हारे दिमाग में कोई तरकीब सूझ रही है क्या?"

तूफान टक्कर : "जब छत गिरने लगे, तब भाग निकलो..."

लाल लगाम : (न समझते हुये) "क्या कहा?"

पाताल पापी: "मैंने सब सोच रखा है! बस घंटे भर में, यह दुनिया जिसने मेरा तिरस्कार किया था, वह मेरे बदले की आग में जल उठेगी। और मैं? मैं सही सलामत अंतरिक्ष की ओर उड चलूँगा। अरे क्या कर रहे हो...कौन?"

छोटा राजा : "माफ करना मैं सह-यात्रियों को अपने संग नहीं ले चलता।"

सूत्रधार : तूफान टक्कर, लाल लगाम और छोटा राज एक रहस्यमय घटना में घिरे हैं - - तीन, तीन महान विज्ञानिकों के लापता होने की रोमांचक घटना की छान-बीन कर रहे थे कि अचानक वे एक भूकम्प के चंगुल में फँस गये और धरती के भीतर धँस गये -- अब आगे सुनिये,"

लाल लगाम : "कोई फायदा नहीं! हम इस खड्ड के ऊपर नहीं जा पाएँगे।"

तूफान टक्कर : "लगता है कि किसी प्रकार के चुंबकीय क्षेत्र में हम लोग फँस गये हैं। होशियार! अपने आप को सँभाले रहो। हम पानी में छलाँग लगाने वाले ही हैं अब!

(लाल लगाम की आवाज पानी की सतह से ऊपर चीखती हुयी पुकार सी सुनायी देती है) - "अरे यार, यह तो कोई भूगर्भ नदी है, और हम तेज धारा में बहे जा रहे हैं।"

तूफान टक्कर : तैरने के लिये तैयार हो जाओ। हमारा यान और थपेड़े सह न पायेगा। यह यान बस अब टूटने वाला है।

लाल लगाम : जब छोटा था तब सोचा करता था कि तैरने में बडा मजा है!"

तूफान टक्कर : वे भूकम्प के झटके, धक्के, किसी दुर्घटना की वजह से पैदा नहीं हुए थे। जिस किसी ने भी उन तीन वैज्ञानिकों का अपहरण किया था, उसी ने अब हम लोगों के लिये भी, बुलावा भेजा है।"

छोटा राजा : "एक बार पता कर लूँ कि वो कौन पाजी है, फिर तो उसकी गर्दन होगी और मेरे हाथ।"

तूफान टक्कर : "मेरा अंदेशा यह है कि वही हमें ढूँढ लेगा।"

लाल लगाम : "मैं पहले कभी, किसी उपग्रह की भीतरी सतह तक गया नहीं।"

तूफान टक्कर : "तो बस यही आरजू रखो कि हम उपग्रह के भीतर नहीं, बाहर ही रहें।"

छोटा राजा : "यह जगह देख कर, मुझे तो कँपकँपी आ रही है। तूफान, सम्भलो!"

पाताल पापी: "कोई बात नहीं। यह लोग और कहीं नहीं जायेंगे।"

तूफान टक्कर : "अहा! रास्ता खत्म!"

लाल लगाम : "मैं जानता हूँ छोटे राजा कि तुम्हारा इरादा नेक था पर तुमने यह गलत सुरंग चुनी।"

पाताल पापी: "मेरे दोस्तों! तुम्हारी कामयाबी बस इसी बात में है कि तुमने तमाम दुनिया के सर्वनाश को तेजी दे दी। अल्विदा!"

(पागलों की तरह हँसता है)

छोटा राजा : "अब क्या करें तूफान?"

तूफान टक्कर : "काश मैं इस सवाल का जवाब दे पाता।"

सूत्रधार : "सच है, अब क्या हो? क्या तूफान, लाल लगाम और छोटा राजा इस भूगर्भ - कैद खाने से निकल पाएँगे? क्या वे इस पृथ्वी को सर्वनाश से बचा पाएँगे?"

तूफान टक्कर : ऊपर लाल लगाम! ऊपर खींचो!

लाल लगाम : "नहीं खींच पा रहा। मैं पूरी ताकत आजमा रहा हूँ पर यह हिल भी नहीं रहा।"

सूत्रधार : "क्या लाल लगाम, छोटा राजा और तूफान टक्कर इस भूकम्प के बाद भी बच निकलेंगे? और अगर बच भी गये तब क्या वे भूगर्भ के मालिक के हाथों पकड़े जायेंगे?"

तूफान टक्कर : "जी हाँ जनरल साहब! मैं आपकी बात से पूरी तरह सहमत हूँ और इस मामले में अवश्य कुछ करना चाहूँगा। छोटे राजा, एक अंतरिक्ष यान तैयार करो। पृथ्वी हमारा लक्ष्य रहेगी, चलने की तैयारी करो।"

छोटा राजा : (खुशी में मुस्कुराते हुए) मैं जानता था कि तुम यही कहनेवाले हो।

लाल लगाम : एक सवाल है - हम पृथ्वी पर जासूसी करने चलेंगे तो क्या हम गिरफ्तार नहीं हो जाएँगे?

तूफान टक्कर : "याद करो, जब छोटे राजा को जबरदस्त चोट लगी थी - - (अपना अँगूठा और उँगली दिखाते हुए) मौत से बस इतनी सी दूरी थी। और तब, तो डॉ. बूमक ने कोई सवाल नहीं किया था। (वही वैज्ञानिक, जो आज लापता है) उन्होंने एक गैर-कानूनी मुजरिम की जान बचाने के लिये अपने जान की बाजी लगा दी थी। और उसी वक्त हमने यह कसम खायी थी कि उनकी अच्छाइयों का बदला हम अवश्य देंगे।"

लाल लगाम : मैं तुम्हारी बात समझता हूँ, तब चलो, चलें

पाताल पापी: "अब बोलो मुझसे बात करो " (तभी कम्प्यूटर की आवाज बीच में सुनाई देती है )

कम्प्यूटर का स्वर : "यह कार्य पूरा हुआ। सुझाव है, दुबारा सारी प्रणाली की जाँच करें।"

पाताल पापी: बहुत बढिया मेरी जान! धन्यवाद! और सज्जनों आपका भी शुक्रिया। आपने अपने, वैज्ञानिक दिमाग का इस्तेमाल किया, उसका भी शुक्रिया।

(भयानक, भद्दी हँसी हँसते हुए उसकी आवाज विलीन हो जाती है)

लाल लगाम : "हम पृथ्वी के वातावरण में, प्रवेश कर रहे हैं।"

तूफान टक्कर : "इस नक्शे के हिसाब से, बम-विस्फोट-प्रयोग का स्थान है - - शून्य तीन शून्य! सौ फिसदी सच है लाली। जितनी ताकत हो लगा दो।"

एक पुरूष स्वर : "मेरे मालिक, एक अनजाना अंतरिक्ष-यान, आधुनिक-बम-विस्फोट के स्थान के करीब पहुँच गया है।"

पाताल पापी: "अच्छा! एक्स-रे, स्कैनर और रडार से सम्पर्क करो।"

छोटा राजा : "काश डॉ.बूमक और दूसरे दोनों इन्सान अब भी जीवित हों!"

तूफान टक्कर : "अगर जिंदा हुए तो मैं अवश्य उन्हें खोज निकालूँगा।"

पाताल पापी: (दुष्टता से मुस्कराते हुए) "हाँ, हाँ, अवश्य खोज निकालोगे तुम, उन्हें मेरे यार! मैं वही तो कोशिश करूँगा! मुझे भी बखूबी आता है उनसे किस तरह पेश आना चाहिए जो दूसरों के कामों में टाँग अड़ाता है।"

पाताल पापी: (अपने आदमी को आज्ञा देते हुए) "अंतरिक्ष यान का पीछा करो और भूकम्प के झटके देनेवाली मशीन को तैयार करो! साथ-साथ, चुम्बकीय खिंचाव के प्रवाह को भी शुरू करो। (मुस्कुराते हुए) हमारे घर, मेहमान आने ही वाले हैं!"

तूफान टक्कर : "लाली, देखो तो, वहाँ सामने क्या दिखलायी दे रहा है अरे जरा नजदीक ले चलो, पास से देखना चाहता हूँ।"

लाल लगाम : "ठीक है!

तूफान टक्कर : "मुझे तो यहाँ, भूकम्प का कोई निशान दिखाई नहीं दे रहा।"

लाल लगाम : "ना ही मुझे दिखलायी दे रहा।यहाँ पर तो कुछ ऐसा लग रहा है मानो।"

तूफान टक्कर : "एक पल रूको तो! यह कैसी आवाज है? लाली, ऊपर उठा लो यान को यह तो दूसरे झटके जैसा रे... अरे..."

पाताल पापी: "होशियार! यह छोटा विमान! यह बम, कुछ ही पलों में तितर-बितर हो जाएगा।"

तूफान टक्कर : "वो उड़ा हमें यहाँ से भाग निकलना होगा।"

छोटा राजा : "पर कैसे?"

तूफान टक्कर : "ओ छोटे राजा, अपनी माप की छड़ी दो तो जल्दी से!"

छोटा राजा : "तुम इस मापदंड से क्या करोगे?

तूफान टक्कर : "थोडा सा इंर्धन इस्तेमाल करूँगा।

तूफान टक्कर : "पीछे हटो बस यही आशा करूँगा कि रेल-इकाई पाताल पापी से, तुरन्त आ मिले किसी भी सूरत में तुम्हें इसे रोकना है-

लाल लगाम : 'बहुत ठीक!

तूफान टक्कर : "हम यहाँ, प्रज्वलन चाबी (डिटेक्टर फ्यूज) को जाँचते रहेंगे, चलो छोटे राजा।

छोटा राजा : "वाह क्या खूब निशाना मारा है! और वह भी सही वक्त पर!"

सूत्रधार : इस धरती पर कुछ विचित्र और भयानक दुर्घटनाएँ बस अब घटने ही वाली है।

डॉ. शिव : "डॉ. गिरधर, देखिये, बडा रोचक व सनसनीखेज यंत्र क्रियाशील है। यह क्या किस्सा खुल रहा है?"

दोनो डॉ. : "आहा! समझ लो भूकम्प..."

डॉ. शिव : "अरे मैं पकड़ नहीं पाऊँगा।"

एक सिपाही : "हम यहाँ से प्रस्थान करने को बिलकुल तैयार हैं डाक्टर।"

डॉ. बूमक : "अच्छी बात है क्रमिक गिनती आरम्भ हो जाये!"

सिपाही : "जी बहुत अच्छा।"

डॉ. बूमबाक : "अरे! अरे! भूचाल गिनती रोक दो... अरे... अरे... बचाओ "

(टी वी पर समाचार वाचक की तस्वीर और स्वर : "और इस भांति डॉ. बूमक के लापता होने की दु:खद घटना, जो, "आधुनिक विस्फोटक प्रयोग संस्थान" के इलाके के पास घटित हुयी, उससे सभी उद्विग्न हैं। इस दुर्घटना से कुल तीसरे महीने वैज्ञानिक के गायब होने का कुदरती हादसा घट गया है जिससे सभी परेशान हैं।")

सेनापति : "(नाराजगी भरा स्वर) कुदरती घटना खाक घटी है! पहले डॉ. गिरधर और फिर डॉ. शिव गायब हुये। और अब डॉ.बूमाक भी गए। सबसे शक्तिशाली, तेज दिमाग विज्ञान के क्षेत्र के, इस पृथ्वी के काबिल इन्सान गुम हो गये और एक के बाद एक, यह भूचाल के झटके और हम उनके शिकार! यह तो बड़ा विचित्र सा संयोग है! मैं नहीं मानता जरूर इस के पीछे कोई बडा भारी रहस्य है!"

डॉ. बूम्बाक : "मैं, अंतरिक्ष ग्रह कक्ष की पुलिस से सम्पर्क करने में, सफल हुआ! वे लोग जब हमें लेने आयेंगे तभी पाताल पापी और उसके साथियों को भी पकड लेंगे।"

तूफान टक्कर : "माफी चाहता हूँ डॉक्टर साहब! आपको फिलहाल, यही छोड़े जा रहा हूँ, पर हमें यहाँ से अब रफूचक्कर हो जाना चाहिये। इस के पहले कि वो लोग यहाँ आ पहुँचें।"

डॉ.बूमाक : "सही फर्मा रहे हो बरखुरदार, पर मैं आपका कर्ज किस तरह अदा कर पाऊँगा? कुछ तो ऐसा जरूर होगा जो मैं कर पाऊँगा।"

छोटा राजा : "ऐसी बात है! तब तो में गर्दन बाहर को किए देता हूँ, फिर गोलियों से घायल हो जाता हूँ और बाद में, आप फिर मेरी जान बचा लीजिएगा डॉक्टर।"

डॉ बूमाक और सभी हँसने लगते हैं छोटे राजा की बात पर।

१ मई २००३

Thursday, September 14, 2017

संवरण-तपती : अमर युगल पात्र

अमर युगल पात्र – संवरण-तपती : 

महाभारत, आदिपर्व

गंधर्वराज चित्ररथ ने अर्जुन को तपतीनंदन कहकर संबोधित किया। अर्जुन ने उनसे पूछा कि वे तो कुन्ती के पुत्र हैं, फिर तपतीनंदन कैसे हुए। इस पर गंधर्वराज ने सूर्यपुत्री तपती की कथा सुनाई।
आकाश में सर्वश्रेष्ठ ज्योति भगवान सूर्य हैं। उनकी प्रभा स्वर्ग तक व्याप्त है। उन्हीं सूर्यदेव की पुत्री का नाम था ‘तपती’ !
 तपती अपने पिता  सूर्य के समान ज्योति से परिपूर्ण थी। अपनी तपस्या के कारण वह तीनों लोकों में तपती के नाम से पहचानी जाती थी। तपती सावित्री की छोटी बहन थी। तपती के जैसी सुंदर, सुशील कन्या, असुर योनि, नाग वंश,यक्ष समुदाय, या गंधर्व प्रजा - किसी में भी नहीं थी। उसके योग्य पुरुष पति ढूँढना, सूर्यदेव को भी भारी पड़ रहा था। सो वे हमेशा चिंतित रहते थे कि अब ऐसी रूपवती कन्या का विवाह करें भी तो किससे करें?
      उस समय पृथ्वी पर, पुरुवंश के राजा ऋक्ष के पुत्र ‘संवरण’ राज कर रहे थे। गवान सूर्य के परम् भक्त थे। वे बड़े ही बलवान थे। वे प्रतिदिन सूर्योदय के समय अर्ध्य, पाद्य, पुष्प, उपहार, सुगंध, लेकर , अत्यंत पवित्र ह्रदय से, सूर्य देवता की पूजा किया करते थे। नियम, उपवास तथा तपस्या से सूर्यदेव को संतुष्ट करते और बिना अहंकार के पूजा करते। संवरण की भक्ति देख धीरे-धीरे सूर्यदेवता के मन में यह बात आई कि, यही राजपुरुष मेरी पुत्री ‘तपती’ के योग्य पति हैं।
        एक दिन की बात है – संवरण अपना उम्दा  घोड़ा लेकर जंगल की तराइयों में शिकार खेलने निकल पड़े। बहुत देर तक घुड़सवारी करने पर उनका घोड़ा भूख, प्यास के कारण, वहीं जमीन पर गिरकर मर गया। अचानक उनकी दृष्टि निर्जन वन में निर्भय होकर विचरण करती, एक अकेली कन्या पर पड़ी।  वे उसकी ओर अनिमेष नयनों से निहारने लगे। उन्हें ऐसा लगा मानो साक्षात सूर्य की प्रभा ही पृथ्वी पर विचरण कर रही हो ! उनके मन में विचार आया, ‘‘ओहो। इस युवती कन्या का स्वरूप दैवी है। ऐसा रूप मैंने नहीं देखा।’’ 
     राजा के नयन और मन कन्या में गड़ गए। वे सारी सुधबुध भूल गए। हिलना-डुलना भी भूल गए। जब वह कन्या एक वृक्ष के पीछे ओझल हुई तब उन्हें  चेतना आई। उन्होंने मन-ही-मन निश्चय किया कि ब्रह्माजी ने त्रिलोक के सौंदर्य को एकत्र करके इस मूर्ति को बनाया है। उन्होंने उस कन्या  के पीछे जाकर कहा,
‘‘हे त्रिलोक सुंदरि, तुम कौन हो ? किसकी पुत्री हो? इस निर्जन वन प्रांत में अकेले क्यों भ्रमण कर रही हो? तुम्हारी अनुपम काँति से, ये स्वर्णाभूषण  और भी अधिक  देदीप्यमान हो रहे हैं। तुम्हारे केशों में गूँथे लाल कमल की सुरभि से वातावरण सुगं‌धित हो उठा है। तुम अवश्य कोई अप्सरा या देवी हो। कहो तुम कौन हो? मैं तुम पर मेरा मन हार चुका हूँ। मैं, तुम्हारे प्रेम-पाश में बंध गया हूँ। कृपया, मेरा प्रणय-प्रस्ताव स्वीकार करो।’’
       कन्या सूर्यकुमारी ‘तपती’ राजा संवरण के ऐसे बोल सुनते ही लजा गईं।  वह कुछ बोली ही नहीं और बिजली कड़क उठे उसी तरह तत्क्षण अंतर्धान हो गई।
       अब ‘संवरण’ अत्यंत व्याकुल हो उठे  और असफल रह जाने पर विलाप करते-करते, बेहोश हो गए। जब ‘तपती’ ने व्योम से देखा कि राजा निश्चेष्ट हैं तब वह दयावश पुनः  प्रकट हुई और मीठी वाणी से कहने लगी,
‘‘राजन् उठिए। आप तो सत्पुरुष हैं, फिर इस तरह दयनीय स्थिति में क्यों जमीन पर लोट रहे हैं ?’’
तपती की अमृतमयी वाणी सुनकर संवरण की चेतना लौट आई। उन्होंने बड़े अनुनय से कहा, ‘‘अब मेरे प्राण तुम्हारे हाथों में हैं। मैं इस क्षण के पश्चात् तुम्‍हारे बगैर जी नहीं सकता। हे सुंदरी ! तुम मेरी इस अवस्था से व्यथित होकर यहाँ आई हो। अब मुझे छोड़कर कभी मत जाना। मुझ पर दया करो और मेरे साथ विवाह कर मुझे  स्वीकार करो।’’तपती ने कहा,
‘‘मेरे पिता जीवित हैं। आप उन्हीं से मेरे बारे में पूछें, यही योग्य है। आप जैसे धर्मज्ञ तथा विश्वविदित पुरुवंशीय सम्राट को पति रूप में पाने से मुझे कोई आपत्ति नहीं है। मैं भगवान् सूर्य की कन्या हूँ। विश्ववन्ध्य ‘सावित्री देवी’ की छोटी बहन हूँ।’’ इतना कहकर तपती आकाशमार्ग से अंतर्धान हो गई और संवरण फिर मूर्छित हो गए।
        उसी बीच राजा संवरण के बहुत सारे सैनिक उन्हें ढूँढते-ढ़ूँढते वहीं आ पहुँचे। उन्‍होंने राजा को फिर जाग्रत किया। राजा ने पूरे सैन्य को लौटा दिया और वे स्वयं अपने कुलगुरु वशिष्ठजी को याद करके मन को पवित्र करके एकाग्रता के साथ सूर्य देव की उपासना करने में जुट गए।
          ठीक बारह दिनों के पश्‍चात् महर्षि वशिष्ठ  वहाँ पधारे। उन्होंने संवरण को आश्वासन दिया, ढाँढस बँधाया और फिर सूर्यदेव के सम्मुख जाकर अपना परिचय दिया। प्रणामपूर्वक उन्होंने कहा कि, " आपकी पुत्री यशस्विनी तपती के लिए, मैं  अपने राजा संवरण को पति होने का सौभाग्य चाहता हूँ। हमारी प्रार्थना स्वीकारिए।’’ 
          सूर्य देव ने प्रार्थना सुन ली और गुरु वशिष्ठ के साथ अपनी सर्वांग सुंदरी कन्या को भेज दिया। गुरु वशिष्ठ के साथ आती हुई तपती को देखकर राजा संवरण अपने आनंद का संवरण न कर सके। इस प्रकार सूर्य की अटल आराधना तथा अपने गुरु की शक्ति के प्रभाव से, राजा संवरण ने, तपती जैसी नारी रत्न को प्राप्त किया।
       विधिपूर्वक उनका पाणिग्रहण संपन्न हुआ।

तद्पश्चात  कुछ काल तक उसी शैल शिखर पर राजा ने विहार किया। बारह वर्ष पर्यंत वे वहीं रहे। राजकाज मंत्रियों के द्वारा चलने लगा। तब इंद्र देव ने जो वर्षा ऋतु के स्वामी हैं, उनके राज्य में पानी बरसाना बंद कर दिया। सर्वत्र सूखा-अकाल पड़ गया। लोग मरने लगे। इतना कि ओस तक न पड़ी। प्रजा मर्यादाहीन होकर एक दूसरे को लूटने लगी। तब वशिष्ठ मुनि ने अपनी तपस्या के प्रभाव से वर्षा करवाई।
       तपती-संवरण प्रजा पालन हेतु अपनी राजधानी लौटे। फिर से पैदावार शुरू हो गई। राज दंपत्ति ने सहस्रों वर्षों तक सुख भोगा। इसी तपती के गर्भ से राजा ‘कुरु’ का जन्म हुआ और इसी से कुरु वंश का प्रारंभ हुआ।
- लावण्‍या शाह 

Tuesday, August 29, 2017

अमर युगल पात्र : ऋषि वसिष्‍ठ व ऋषि पत्नी देवी अरूंधती की उज्जवल जीवन गाथा

अमर युगल पात्र : लेख मालिका ~~ प्रस्तुत है .........
ऋषि वसिष्‍ठ व ऋषि पत्नी देवी अरूंधती की उज्जवल जीवन गाथा



उत्तर अमेरिका से प्रकाशित त्रैमासिक पत्रिका ' विश्वा ' में यह आलेख छपा था।
http://www.evishwa.com/
अमर युगल पात्र : वसिष्‍ठ-अरुंधती
श्रीमती लावण्य शाह
सिनसिनाटी, ओहायो, अमेरिका
श्रीमती लावण्या शाह प्रसिद्ध कवि
और गीतकार
पं. नरेन्द्र शर्मा की पुत्री है।
आप मुंबई में पली व बढी।
पिछले १५ वर्षों से अधिक से
लावण्या जी अपने परिवार के साथ सिन्सिनाटी, ओहायो में रहती हैं। लावण्या जी का प्रथम काव्य संग्रह " फिर गा उठा प्रवासी '' , उपन्यास " सपनों के साहिल " व कहानी संग्रह " अधूरे अफ़साने " हाल ही में प्रकाशित हो चुके हैं।
२०१७ में " सुन्दर ~ काण्ड : भावानुवाद " प्रकाशित हो रहा है। आगामी पुस्तक " अमर युगल पात्र " से यह आलेख  प्रस्तुत है। 
वसिष्‍ठ ऋषि ब्राह्मण वंश के मूलपुरुष कहलाते हैं। सप्‍तर्षियों में इनका तथा उनकी पत्‍नी अरुंधती का नाम है। अरुंधती ने अपने नाम की व्‍याख्‍या इस प्रकार की है—‘‘यह अपने पति वसिष्‍ठ को छोड़कर अन्‍य कहीं भी नहीं रहतीं तथा कभी अपने पति का विरोध नहीं करती।’’
वसिष्‍ठ स्‍वायंभुव मन्‍वंतर में उत्‍पन्‍न हुए ब्रह्मा के दस मानसपुत्रों में से एक हैं। कहते हैं कि वसिष्‍ठ का जन्‍म ब्रह्माजी के प्राणवायु (समान) से हुआ था। ‌वसिष्‍ठ ऋषि का ब्राह्मण वंश सदियों तक अयोध्‍या के सूर्यवंशी राजाओं का पुरोहित पद सँभाले रहा। इनकी दो प‌‌त्नियाँ बताई गई हैं। एक तो दक्ष प्रजापति की कन्‍या ‘उर्जा’ और दूसरी ‘अरुंधती’। अरुंधती कर्दम प्रजापति की नौ कन्‍याओं में से आठवीं गिनी जाती हैं। दक्ष प्रजापति की कन्‍या ‘सती’ से शिव ब्‍याहे थे। इस नाते से वसिष्‍ठ शिव के साढ़ू हुए। दक्ष प्रजापति के यज्ञ के ध्‍वंस के समय शिव ने वसिष्‍ठ का वध किया था। अरुंधती के अलावा ‘शतरूपा’ भी वसिष्‍ठ की पत्‍नी मानी गई हैं। (वे अयोनिसंभवा थीं।)

वसिष्‍ठ-अरुंधती का नाम सदा आदर से लिया जाता है। अरुंधती पतिव्रता सन्‍नारियों में उज्‍ज्‍वल स्‍थान प्राप्‍त किए हुए हैं। सप्‍तर्षि तारामंडल में अन्‍य ऋषियों के साथ अरुंधती को एकमात्र स्‍त्री और पत्‍नी, जो पति के सदैव साथ रहती हैं, होने का गौरव प्राप्‍त है। पाश्‍चात्‍य वैज्ञानिकों ने ध्रुव से कुछ नीचे, उत्तर दिशा को प्रज्‍वलित करते हुए इस तारामंडल का नाम The Great Bear रखा है और सर्वोच्‍च स्‍थान पर स्‍थित ‘ध्रुव तारे’ को ‘पोलार बेर’ कहा जाता है। पुराणों में वर्णित है कि वसिष्‍ठ पत्‍नी ‘शतरूपा’ के ‘वीर’ नामक पुत्र को कर्दम प्रजापति की पुत्री ‘काम्‍या’ से विवाह होने के पश्‍चात् ‘प्रियव्रत’ तथा उत्तानपाद दो पुत्र हुए। उत्तानपाद को अत्रि ऋषि ने गोद लिया और उन्‍हीं के ‘ध्रुव’ नामक पुत्र हुआ।
अरुंधती कर्दम प्रजापति तथा माता देवहूति की कन्‍या थीं। कश्‍यप की कन्‍या अरुंधती का उल्‍लेख वायु पुराण, लिंग पुराण, कूर्म पुराण वगैरह में प्राप्‍त है। उनका विवाह वसिष्‍ठ से हुआ यह ज्ञात होता है। वसिष्‍ठ की प्राप्‍ति के लिए देवी अरुंधती ने सीता तथा रुक्‍मिणी की भाँति ‘गौरी-व्रत’ पूजन किया था। इसी कारण इन्‍हें विवाह सुख प्राप्‍त हुआ।

अरुंधती अत्‍यंत तपस्‍विनी तथा पति-सेवापरायण थीं। ऋषियों के पूछने पर उन्‍होंने सविस्‍तार धर्म-रहस्‍य, श्रद्धा, आतिथ्‍य-सत्‍कार, गौ सेवा, ग्राहस्‍थ्‍य धर्म तथा गोशृंग स्‍नान माहात्‍म्‍य की चर्चा की थी।
अग्‍निदेव की पत्‍नी ‘स्‍वाहा’ को एक बार अपने पतिदेव को रिझाने की इच्‍छा हुई। अग्‍नि ने कहा कि ‘मैं सप्‍तर्षियों की पत्‍नियों से बहुत प्रभावित हूँ। जब-जब ऋषिगण यज्ञ करते हैं तब मैं उनकी पवित्रता तथा धर्म की आभा देखता ही रहता हूँ।’ तब स्‍वाहा ने पति अग्‍नि देव को प्रसन्‍न करने की चेष्‍टा से छह ऋषियों की पत्‍नी का रूप धरा। हर बार वे अग्‍निदेव को लुभाने में तथा भ्रमित करने में सफल हुईं। अंतिम बार वे वसिष्‍ठ पत्‍नी अरुंधती का रूप धरने लगीं। जब-जब उन्‍होंने कोशिश की तब-तब उन्‍हें असफल ही होना पड़ा। अरुंधती देवी सी पतिव्रता के तेज के आगे छल-कपट व मायावी शक्‍तियाँ व्‍यर्थ हो गईं। तब संपूर्ण विश्‍व ने जाना की अरुंधती धर्म में कितनी अटल थीं।

एक बार सप्‍तर्षिगण बदरपाचनतीर्थ हिमालय में फल-मूल लाने गए थे। तब बारह वर्षों तक वर्षा बंद हो गई थी। अतः सप्‍तर्षि हिमालय पर ही रुक गए। शंकर भगवान अरुंधती की परीक्षा लेने हेतु दरिद्र ब्राह्मण का रूप धरकर वसिष्‍ठ के आश्रम पर पधारे। अरुंधती के पास कुछ न था। सो उन्‍होंने (लोहे के) बेर शंकर को दिए। शंकर ने कहा, ‘‘देवी, मैं निर्धन हूँ। कहाँ पकाता फिरूँगा? आप ही पका दीजिए।’’ अरुंधती ने अग्‍नि पर बेरों को पकने रखा और समय व्‍यतीत होवे, इस आशय से अनेक धर्म, ज्ञान के विषयों पर ब्राह्मण से चर्चा आरंभ की। चर्चा में लीन अरुंधती को पता भी न चला कि बारह वर्ष व्‍यतीत हो गए। सप्‍तर्षिगण फल-मूल लेकर लौटे। तब भगवान शंकर अपने असली स्‍वरूप में प्रगट हुए, उन्‍होंने अरुंधती की कड़ी तपस्‍या की भूरि-भूरि प्रशंसा की। और तभी से वह आश्रम पवित्र तीर्थस्‍थल बन गया।

अरुंधती और वसिष्‍ठ के पुत्र का नाम ‘शक्‍ति’ था। अन्‍य अरुंधती नामक कन्‍या ‘मेधातिथि’ मुनि की कन्‍या थी। वे ब्रह्मदेव की संध्‍या नामक मानस कन्‍या थी। चंद्रभागा नदी किनारे मेघातिथि मुनि के यज्ञकुंड से वह कन्‍यारूप में प्रगट हुईं। वे जब पाँच वर्ष की थीं ब्रह्मा ने उन्‍हें आकाश में विमान में बैठकर जा रहे थे तब देखा। उन्‍होंने मेधातिथि को आदेश दिया कि इसे साध्‍वी स्त्रियों के संपर्क में रखा जाए। तब मुनि मेधातिथि सावित्री देवी के पास गए तथा हाथ जोड़कर कहा कि–‘‘माँ, मेरी इस पुत्री को उत्तम शिक्षा दीजिए।’’ सावित्री देवी ने सहर्ष अरुंधती का स्‍वागत किया और सात वर्ष बीत गए।

अरुंधती अब बारह वर्ष की हुई। महासती बेहुला तथा सावित्री देवी के संग वे एक बार मानस पर्वत के उद्यान में गईं। वहीं अरुंधती ने तपस्‍या करते हुए वसिष्‍ठ ऋषि को देखा। दृष्‍टि मिलन होते ही दोनों एक-दूसरे पर आकर्षित हुए। जब सावित्री देवी को ज्ञात हुआ तब उन्‍होंने वसिष्‍ठ-अरुंधती का ब्‍याह रचाया। इस तरह जितने भी उदाहरण हैं पुराणों में, वहाँ वसिष्‍ठ और ‘अरुंधती’ पति-पत्‍नी के रूप में हम देखते हैं।
वसिष्‍ठ ऋषि की विश्‍वामित्र ऋषि के साथ दुश्‍मनी थी।
वह ज्‍यादातर विश्‍वामित्र के अहंकार व क्रोध के ही कारण थी।
ऋषि  वसिष्‍ठ तो ब्रह्मर्षि थे, उन्‍होंने इंद्रियों को जीत लिया था।

काम, क्रोध, मद, मोह, बंधन सभी से वे परे हो गए थे। विश्‍वामित्र ने ‘नंदिनी’ नामक कामधेनु का वसिष्‍ठ आश्रम से हठपूर्वक अपहरण करना चाहा। किंतु वे असफल रहे। विश्‍वामित्र ऋषि गायत्री मंत्र सिद्ध कर पाए परंतु अपने दर्प को न जीत पाए। वसिष्‍ठ की शांति व संयम को भंग करने के लिए तब उन्‍होंने वसिष्‍ठ-पुत्र ‘शक्‍ति’ की हत्‍या कर दी। माता अरुंधती पुत्र-वियोग में रो पड़ी। परंतु धीर-संयमी जितेंद्रिय वसिष्‍ठ ने अँधेरी रात्रि में अरुंधती को ढाढ़स बँधाया।

वसिष्‍ठ ने कहा,
‘‘हे माता! मैं तुम्‍हारे शोक को समझ पाता हूँ। तुम्‍हारे अश्रु को छू सकता हूँ।
तुम्‍हारी ‘मनोवेदना’ को अनुभव कर पाता हूँ।
परंतु इस क्षण मेरा मन विश्‍वामित्र के लिए रो रहा है। मुझे उस पर दया आ रही है।’’ 


तब अरुंधती ने रुँधे कंठ से पूछा,
‘‘क्‍यों नाथ? आपको विश्‍वामित्र के प्रति इस भयानक क्षण में
क्‍यों सहानुभूति हो रही है?’’

वसिष्‍ठ ने उत्तर दिया,
‘‘मुझ पर क्रोध करके विश्‍वामित्र अपने तप की, बल की, वीर्य की, अपने मन की शांति का नाश कर रहे हैं। शक्‍ति हमारा पुत्र था। उसका वध करके विश्‍वामित्र को कुछ प्राप्‍त न हुआ। मुझे दुःख है कि गायत्री मंत्र का द्रष्‍टा, गंभीर तपस्‍वी पता नहीं क्‍यों मुझ पर अपना वर्चस्‍व स्‍थापित करना चाहता है। वह जीते अपने आपको। कुमार्ग पर चलनेवाले ज्ञानी व तपस्‍वी के प्रति दयाभाव से मैं विगलित हो रहा हूँ।
काश ! परम कृपालु परमात्‍मा उन्‍हें सन्‍मति दें और सत्य पथ सुझा दे।’’


वसिष्‍ठ का मन से निकला आशीर्वाद सुनकर विश्‍वामित्र (जो छुपकर सारी बातें सुन रहे थे)ब्रह्मर्षि के चरणों में गिर पड़े। वे फूट-फूटकर रोने लगे।

वसिष्‍ठ ने बड़ी कोमलता से उन्‍हें उठाया। बड़ी स्‍निग्‍धता व सौजन्‍य से बिठाया। प्रेमपूरित हाथों से अश्रु पोंछे। माता अरुंधती ने पुत्र के हत्‍यारे का अतिथि-सत्‍कार किया। उसी क्षण से विश्‍वामित्र तपस्‍या की उच्‍चतम श्रेणी में प्रविष्‍ट हुए।

वर्तमान वैवस्‍वत मन्‍वंतर के मैत्रावरुणी वसिष्‍ठ व अरुंधती के अन्‍य पुत्र हैं–पराशर, कृष्‍ण द्वैपायन, शुक्र भूरिश्रवस, प्रभुशंभु और कृष्‍ण गौर। शक्‍ति, सुद्यम्‍नु, कुंडिन, वृहस्‍पति, भरद्वसु, भरद्वाज।
वसिष्‍ठ अयोध्‍या के राजा दशरथ के राजपुरोहित के रूप में बड़े प्रसिद्ध हुए। वे एक नीति विशारद मंत्री, पुरोधा तो थे ही–सर्वश्रेष्‍ठ ब्रह्मज्ञानी, तपस्‍वियों में श्रेष्‍ठ, क्षमाशील, अत्‍यधिक शांतिप्रिय व सहिष्‍णु थे। पुत्रकामेष्‍टि यज्ञ के समय वही दशरथ यज्ञ के ऋत्‍विज बने।

‘राम’ नामकरण भी इन्‍होंने किया। युवराज पदाभिषेक इन्‍हीं ने किया। ‘योगवसिष्‍ठ’ नामक ग्रंथ इन्‍होंने ही भारत को दिया है। धर्मशास्‍त्रकार वसिष्‍ठ रचित ‘वसिष्‍ठस्‍मृति’ नामक स्‍मृति ग्रंथ है। इसमें आचार, संस्‍कार, प्रायश्‍चित्त, रजस्‍वला, संन्‍यासी, आत‌तायी आदि के लिए नियम दिए गए हैं। ‘मनुस्‍मृति’ तथा ‘याज्ञवल्‍क्‍य स्‍मृति’ में भी इसका उल्‍लेख है। अन्‍य ग्रंथ– वसिष्‍ठ-कल्‍प, वसिष्‍ठ-तंत्र, वसिष्‍ठ-पुराण वसिष्‍ठ-शिक्षा, वसिष्‍ठ-संहिता, वसिष्‍ठ-श्रद्धाकल्‍प इत्‍यादि हैं।


वसिष्‍ठ ऋषि का आश्रम विपाशा नदी के किनारे ‘वसिष्‍ठशिला’ नाम से था। एक अन्‍य स्‍थान ‘कृष्‍ण शिला’ उनकी तपस्‍या भूमि थी। इसी कड़ी तपस्‍या के कारण उन्‍हें समस्‍त पृथ्‍वी का पुरोहित पद मिला।
ऋग्‍वेद में वसिष्‍ठ को मैत्रावरुण व उर्वशी अप्‍सरा का पुत्र कहा गया है।
 इस नाते हम कह सकते हैं कि वसिष्‍ठ वंश अति प्राचीन वंशों में गिना जा सकता है। ऋग्‍वेद के अनुसार वसिष्‍ठ का पुत्र शक्‍ति था तथा पौत्र का नाम ‘पाराशर’ शाक्‍त्‍य था। पाराशर के पुत्र हुए श्री कृष्‍ण द्वैपायन व्‍यास, जिन्‍होंने महाभारत ग्रंथ की रचना की।

वसिष्‍ठ सुवर्चस सँवरण राजा के पुरोहित थे। अतः वसिष्‍ठ नाम के कई ऋषिगण हैं तथा उनके वंश में अनेक महान् व्‍यक्‍ति आते हैं। उनमें से प्रमुख हैं :
१. वसिष्‍ठ देवराज—अयोध्‍या के त्रय्यरुण, त्रिशंकु एवं हरिश्‍चंद्र के काल में।
२. वसिष्‍ठ आपव—हैहयराज कार्तवीर्य अर्जुन के समकक्ष।
३. वसिष्‍ठ अथर्वनिधि—अयोध्‍या के बाहुराजा का समकालीन।
४. वसिष्‍ठ श्रेष्‍ठभाज—अयोध्‍या के मित्रसह कल्‍माषपाद सौदाह राजा के काल के।
५. वसिष्‍ठ अथर्वनिधि (द्वितीय)—अयोध्‍या के दिलीप खट्वांग के समकालीन।
६. वसिष्‍ठ दाशरथि—दशरथ व राम के अयोध्‍या के राजपुरोहित।
७. वसिष्‍ठ मैत्रावरुण—उत्तर पांचाल के पैजवन सुदास राजा के काल के।
८. वसिष्‍ठ शक्‍ति—वसिष्‍ठ मैत्रावरुण का पुत्र (वसिष्‍ठ शक्‍ति)।
९. वसिष्‍ठ सुवर्चस्—हस्‍तिनापुर के संवरण राजा के समकालीन।
१०. वसिष्‍ठ—अयोध्‍या के मुचकुंद राजा का समकालीन।
११. वसिष्‍ठ—हस्‍तिनापुर के ‘हस्‍तिन्’ राजा के समकालीन।
१२. वसिष्‍ठ धर्मशास्‍त्रकार—वसिष्‍ठस्‍मृति के रचियता।
सप्‍तर्षियों में स्‍थान प्राप्‍त किए हुए, आकाश में स्‍थित, पवित्र तारामंडल में अपना अडिग पद सँभाले हुए, अमर युगल पात्र ‘वसिष्‍ठ-अरुंधती’ को भारतवर्ष प्रणाम करता है।
कहते हैं, जब भी तपस्‍या सफल होने की सीमा में प्रवेश करती है
तब ईश्‍वर के आशीर्वाद की बधाई देते हुए प्रथम सप्‍तर्षियों का आगमन व दर्शन होता है।
रामचंद्र के गुरु वसिष्‍ठ व गुरुपत्‍नी अरुंधती को हम पवित्रता से अंजलि बाँधे नमन करते हैं और विदा लेते हैं।
सप्‍तर्षि : ७  ऋषियों के नाम
१. अंगिरस् भृगु
२. अ‌त्रि
३. क्रतु
४. पुलत्‍स्‍य
५. पुलह
६. मरीचि
७. वसिष्‍ठ

खगोल शास्त्र में ( एस्ट्रोनॉमी में ) इस सप्तर्षि तारा मंडल को " बीग डीपर " कहते हैं
और स्वच्छ आकाश में , सप्तर्षि, उरसा मेजर 
निहारिका में, साफ़ दीखलाई पड़ते हैं। 

File:Ursa Major constellation detail map.PNG

Thursday, July 13, 2017

कैकेयी / मँथरा : पारस- स्पर्श : लेख मालिका

कैकेयी / मँथरा : पारस- स्पर्श : लेख मालिका 
दोहा: भरत सरिस को राम सनेही, 
जग जपे राम, राम जपे जेहि
सुमति कुमति सब के उर सही, 
नाथ पुराण निगम अस कहीँ 
जहाँ समति तहँ सँपत्ति नाना, 
जहाँ कुमति तहँ विपत्ति निदाना
आज अयोध्यापुरी, इन्द्र की अलकापुरी को मात कर रही है। राजमहल के सिँहद्वार पर मँगलवाध्य बज रहे हैँ फूल तोरण से हर प्रासाद शोभायमान है। 
भरत लाल ने नँदीग्राम से सँदेशा भिजवाया है कि, " श्री राम, माँ जानकी समेत, लखन लाल के संग अयोध्या पुरी पधार रहे हैँ। मेरे बडे भैया लौट आयेँगे "
इतने विचार से , भरतजी के साथ हर अयोध्यावासी के मानोँ भाग्य के सूर्य का उदय हो रहा है। पिता की आज्ञा का पालन करते हुए, जन जन के दुख का हरण कर, आज्ञाकारी श्री रामने १४ वर्ष बनवास भोगा। दुःख का काल समाप्त हुआ।आज सुमँगल अवसर आया है। मानोँ मृत शरीर मेँ प्राण लौट आये हैँ!
अयोध्यापुरी में हर्ष का पारावार उमडा है। 
Image result for कैकेयी
कैकेयी महारानी के प्रासाद से लगे एक कक्ष मेँ, मैले कुचले वस्त्र पहने एक वृध्धा, अपने रुखे, अस्त व्यस्त  बिखरे केशोँ को, बार बार सहला रही है। परछाईँ के बीचसे, झाँकते उसके विस्फरीत नेत्र , टकटकी बाँधे द्वार को देख रहे हैँ ! कौन है ये अमँगला रुप लिये स्त्री ? जो अयोध्या नगरी के मँगल उत्सव के विपरीत दीख रही है ? 
ये है कैकेयी रानी की मुँहलगी , दासी मँथरा !Image result for कैकेयीमँथरा का मतलब है = दुर्बुध्धि ! मँथरा अयोध्या की नागरिक नहीँ थीँ  परँतु, कैकेयी के साथ कैकय देश से आई थी। 
ब्रह्माजी के कहने पर, माँ सरस्वती ने, मँथरा की मति फेर दी थी।  अयोग्य व्यक्ति की मति कु -समय पर, अक्सर, बदल जाती है। मँथरा लोभी, दँभी व पाँखँडी थी। उसीने कैकेयी के कान भरे थे और उकसाया था कि, वह, महाराज दशरथ से, उनके एकमात्र पुत्र भरत लाल के लिये राजगद्दी माँग ले और श्री राम को वनवास दे दीया जाये !
कैकेयी भी कुबुध्धि के वश हो गईँ।  महाराज दशरथ ने उन्हेँ २ वचन माँगने को कहा था जब एक बार , युध्ध भूमि पर कैकेयी ने महाराज की प्राण रक्षा की थी अपने कुशल रथ सँचालन से मूर्छित दशरथजी को वे, शत्रु पक्ष से बचा, सुरक्षित स्थान पर ले गईँ थीँ।  जब होश आया तब महाराज दशरथ ने उन्हेँ २ वचन माँगने को कहा था।उस समय तो कैकेयी ने कुछ माँगा नहीँ था।  
        कई वर्षोँ पश्चात, भरत के लिये, अयोध्या का राज ~ सिँहासन और राम को वनवास ! यह  दो वचन मँथरा के उकसाने पर कैकेयी ने माँगे ! 
          अयोध्या नरेश दशरथ जी ने कहा, " रघुकुल रीति सदा चली आई, प्राण जायेँ वरु, वचन न जाई "  जब श्री राम, चल निकले, तब दशरथ जी के प्राण पँखेरु उड गए ! माता कौशल्या, माता सुमित्रा को पुत्र वियोग सहना पडा। लक्ष्मण जी भी बडे भाई राम जी व भाभी सीता जी की सेवा करने वन गए। उर्मिला जी बिन कारण वियोगिनी बनीँ !  माँडवी , श्रुतकीर्ति, भरत लाल व शत्रुघ्नजी सभी की सेवा करने मेँ दुखी मन से समय बिताने लगे। 
 श्री राम वन गए तभी तो असँख्य मात्रा मेँ राक्षस दल का सँहार हुआ। पापी रावण की महासत्ता का नाश हुआ।विभीषण को लँका का राज्य मिला। अनेक ऋषियोँ को आश्रम मेँ श्री राम, सीता जी के दर्शन हुए। 
१४ वर्ष तक भरत जी तपस्वी बन कर श्री राम की चरण पादुका को सिँहासनारुढ कर, श्री राम नाम से राज्य का भरण पोषण करते रहे थे। 
आज पुष्पक विमान से उतर कर श्री राम, सीधे कैकेयी माता के कक्ष की ओर चल पडे। मँथरा ने देखा तो वह चिल्लाती हुई आयी , " प्रभु ! मुझ पापिन को कदापि क्षमा ना करेँ !! प्रभु, दँड दीजिये! मैँने घोर अपराध किया है ! मैं पापिन हूँ !  मैँ, ही सर्वनाश का कारण हूँ ! "
श्री राम: " हे,माता ! पश्चात्ताप की अग्नि से जलकर आप पवित्र हुई ! उठो माँ ! मुझे औरा लक्ष्मण को आशीर्वाद दो ! देखो, जानकी आपकी चरण वँदना कर रही है , मेरे भरत को आशिष दो माँ ! " पैरोँ पर रोती गिडगिडाती, मँथरा को प्रभु ने अपने कोमल करोँ से उठा लिया। मन्थरा को आसन पर  बिठलाया, शीतल जल पिलाया।  प्रभु के पावन चरण स्पर्श कर, मँथरा पावन हुई। उसकी दुखी आत्मा को पवित्रता मिली ! दुखी कैकेयी माता के पाप भी धुल गए।  पारस - स्पर्श से विकृत लोहा भी पवित्र स्वर्ण हुआ प्रभु कृपा का यही स्वरुप है  ! यही प्रसाद है।  
" सब जानत प्रभु, प्रभुता सोई, तदपि कहे बिनु रहा न कोई 
~ लावण्या 

Tuesday, July 11, 2017

कुँती या पृथा की व्यथा कथा : पारस ~ स्पर्श : लेख मालिका

कुँती या  पृथा की व्यथा कथा : पारस ~ स्पर्श : लेख मालिका 
दीन दवालु बिरदु सँभारी 
हरहु नाथ मम सँकट भारी ,
मँगल भवन अमँगलहारी, 
उमा सहित जेहि जपत पुरारि 
द्रवहु सो दसरथ, अजिर विहारी !
बोलो,राम कृष्ण राम कृष्ण हरि हरि ,
 राम कृष्ण राम कृष्ण हरि हरि 
यदुवँश के शूरसेन राजा के वासुदेव नामक पुत्र व पृथा नाम की कन्या सँतान थीँ। 
शूरसेन की बहन, कुँतीभोज नामक राजा से ब्याही गईँ थीँ।  कुँतीभोज स्वयम नि: सँतान थे सो, पृथा कुँतीभोज को सौँप दी गई। उस घटना के बाद सभी पृथा को " कुँती " कहकर पुकारने लगे। बडे लाड प्यार से कुँती , कुँतीभोज के महल मेँ बडी होने लगीँ।  
 कुन्ती पंच-कन्याओं में से एक हैं जिन्हें चिर-कुमारी कहा जाता है। कुन्ती वसुदेव जी की बहन और भगवान श्रीकृष्ण की बुआ थी।
एक दिवस की बात है , महाक्रोधी, ऋषि दुर्वासा कुँतीभोज के महलोँ मेँ पधारे। कुँवारी कन्या कुँती ने बडे मनोयोग से दुर्वासा की सेवा की। ऋषि सेवा से प्रसन्न हुए और बोले, 
दुर्वासा : कुँती बेटी ! मैँ स्नान करके आता हूँ।  तुम मेरे भोजन की व्यस्थथा कर लो !" 
कुँती : " जो आज्ञा ऋषिवर ! "
कुछ देर बाद दुर्वासा लौटे।  भोजन तैयार था परँतु कुछ ज्यादा गर्म था।  दुर्वासा ऋषि क्षण मात्र में क्रोधित हो जाते हैं सो उन्होंने भोजन का गर्म थाल, कुँती की पीठ पर रख दिया !
कुँती अपने आँसू पीकर, उस थाल की उष्णता सहन कर गईँ। परन्तु और कोइ बात न कही। कुंती की सहनशीलता  देख कर, प्रसन्न हुए दुर्वासा ने, कुँती को, देवोँ को बुलाकर, उन्हेँ वश मेँ करने का एक गुप्त मँत्र दे दिया और  सावधान भी कर दिया कि, ' बेटी इस मँत्र को यूँ ही व्यर्थ मेँ ना उपयोग किया जाये उस का ध्यान रखना ' ।  
    कुछ माह व्यतीत हुए।  एक दिन कौतुहलवश कुँती ने सोचा, ' देखूं तो ऋषिवर के प्रसाद स्वरूप प्रदान किये इस गुप्त मन्त्र की शक्ति  कैसी है ! ' कुंती ने आगे विचार किया कि , 
" मैँ इस मँत्र की शक्ति को परखना चाहती हूँ " 
दृष्टि आकाश की ओर उठ गयी तो  देखा सूर्य देव अपनी पूर्ण आभा से विराजमान हैं। वे  प्रखर तेज व  प्रचण्ड ज्योति सहित चमक रहे थे। पृथ्वी लोक उनसे  प्रकाशित था।  सो, कुँती ने वह गुप्त मँत्र पढा और सूर्य देव को बुलावा भेजा ! ऋषि का वरदान अमोघ होता है सो फलीभूत हो गया !  अचानक, सूर्य देव, कुँती के समक्ष साक्षात देह धारण कर , उपस्थित हो गए! सूर्य देव ने  सहमी  हुई कुंती से कहा " अब मैं आ पहुंचा हूँ तो तुम्हें वर दिए बिना नहीं जाऊंगा ! " अब क्या हो ! कुंती धर्मसंकट में दुविधाग्रस्त हो गई ! उन्हें ऐसी घटना होगी इस का कोइ विचार भी न आया था।  Image result for कुंती
प्रसाद स्वरुप, सूर्य देव पिता बने और बिन ब्याही कुँती एक दिव्य  बालक की माता बन गई !
प्रसाद या आशीर्वाद भी मनुष्य को, सोच समझकर उपयोग मेँ लेना चाहिये।अन्यथा नहीँ। 
अब कुँती क्या करती ? रोते रोते, कुँती ने, लोक लाज के भय से, मानहानि की आशँका से, उस दिव्य बालक को, एक पिटारे मेँ रखकर, नदी मेँ बहा दिया ! Image result for kunti
यही बालक आगे जा कर, महारथी कर्ण बना ! 
कुँती का विवाह पाँडु से हुआ जिन्हे, पीलिया या पाँडु रोग था और स्त्री समागम से उनको मृत्यु का भय था उन्होँने अपनी पत्नी कुँती से कहा कि, " हे महारानी कुँती ! स्त्री समागम से मेरी मृत्यु निस्स:देह होनी है। वँश आगे न बढने से मुझे बडी ग्लानि हो रही है ! " 
तब, कुँती ने उन्हेँ " दैवीवशीकरण मन्त्र " की बात बतलाई ! पाँडु की आज्ञा से कुँती ने, धर्मराज से - > युधिष्ठिर, वायु देव से - भीम, इन्द्र से -> अर्जुन, जैसे पुत्र रत्न प्राप्त किये !
युधिष्ठिर, पाँडु के बडे भ्राता, धृतराष्ट्र के ज्येष्ठ पुत्र दुर्योधन से पहले जन्मे थे और कुरुवँश की राजगद्दी के असली वारिस थे। 
 कुरुक्षेत्र युध्ध की करुण समाप्ति के बाद, माता कुँती ने युधिष्ठिर से कर्ण का श्राध्ध करने को कहा  ये रहस्य भी बतलाया कि, "कर्ण पाँडु भाइयोँ मेँ सबसे बडे, सहोदर पुत्र थे "  जिसे सुनकर  युधिष्ठिर को बहोत पीडा व ग्लानि हुई।उन्होँने अपनी माता को श्राप दिया  कि, 
" इस घटना के पश्चात  किसी स्त्री के मन मेँ कोई गुप्त बात कभी न रह  पायेगी " अत्यँत दुखसे आक्रँद करतीँ अपनी बुआ कुँती के शीश पर श्री कृष्ण ने अपना वरद्` हस्त रखा और उन्हेँ साँत्वना दी। 

 श्री कृष्ण के पवित्र " पारस - स्पर्श " ने कुँती के पाप धो दिये। वे महारानी गाँधारी व धृतराष्ट्र के साथ, तपस्या करने वन चलीँ गईँ। 
" सब जानत प्रभु, प्रभुता सोई, तदपि कहे बिनु, रहा न कोई 

श्री कृष्णाय नम :
Photo


īśvaraṁ prakṛteḥ param
alakṣyaṁ sarva-bhūtānām
antar bahir avasthitam

Śrīmatī Kuntī said: O Kṛṣṇa, I offer my obeisances unto You because You are the original personality and are unaffected by the qualities of the material world. You are existing both within and without everything, yet You are invisible to all.
[ Śrīmad-Bhāgavatam 1.8.18 ]

Śrīmatī Kuntīdevī was quite aware that Kṛṣṇa is the original Personality of Godhead, although He was playing the part of her nephew. Such an enlightened lady could not commit a mistake by offering obeisances unto her nephew. Therefore, she addressed Him as the original puruṣa beyond the material cosmos. Although all living entities are also transcendental, they are neither original nor infallible. The living entities are apt to fall down under the clutches of material nature, but the Lord is never like that. In the Vedas, therefore, He is described as the chief among all living entities (nityo nityānāṁ cetanaś cetanānām). Then again He is addressed as īśvara, or the controller. The living entities or the demigods like Candra and Sūrya are also to some extent īśvara, but none of them is the supreme īśvara, or the ultimate controller. Kṛṣṇa is the parameśvara, or the Supersoul. He is both within and without. Although He was present before Śrīmatī Kuntī as her nephew, He was also within her and everyone else. In the Bhagavad-gītā (15.15) the Lord says, “I am situated in everyone’s heart, and only due to Me one remembers, forgets, and is cognizant, etc. Through all the Vedas I am to be known because I am the compiler of the Vedas, and I am the teacher of the Vedānta.” Queen Kuntī affirms that the Lord, although both within and without all living beings, is still invisible. The Lord is, so to speak, a puzzle for the common man. Queen Kuntī experienced personally that Lord Kṛṣṇa was present before her, yet He entered within the womb of Uttarā to save her embryo from the attack of Aśvatthāmā’s brahmāstra. Kuntī herself was puzzled about whether Śrī Kṛṣṇa is all-pervasive or localized. In fact, He is both, but He reserves the right of not being exposed to persons who are not surrendered souls. This checking curtain is called the māyā energy of the Supreme Lord, and it controls the limited vision of the rebellious soul. It is explained as follows.
Photo

Kṛṣṇa says in Bhagavad-gītā (10.10):
teṣāṁ satata-yuktānām-
bhajatāṁ prīti-pūrvakam
dadāmi buddhi-yogaṁ taṁ
yena mām upayānti te
“To those who are constantly devoted and who worship Me with love, I give the understanding by which they can come to Me.” If one is actually very serious in searching for Kṛṣṇa, Kṛṣṇa is everywhere. Aṇḍāntara-stha-paramāṇu-cayāntara-sthaṁ govindam ādi-puruṣaṁ tam ahaṁ bhajāmi (Brahma-saṁhitā 5.35). Kṛṣṇa is present within the universe, within our hearts, and even within the atom. So it is not difficult to find Him, but one must know the process by which to do so. This process is very simple, and by the order of Śrī Caitanya Mahāprabhu we are distributing this process to everyone, without charge. The process is to chant Hare Kṛṣṇa. As soon as one chants Hare Kṛṣṇa, one will immediately understand Kṛṣṇa.
Similarly, simply by hearing or chanting the verses of Śrīmad-Bhāgavatam, one can be purified. Whatever knowledge exists in the world is present in Śrīmad-Bhāgavatam. It includes literature, poetry, astronomy, philosophy, religion, and love of Godhead. Śrīmad-bhāgavataṁ pramāṇam amalam. If one simply reads Śrīmad-Bhāgavatam, he gains the topmost education, for if one studies Śrīmad-Bhāgavatam he will be well versed in every subject matter. Even if one does not understand a single word of the mantras of Śrīmad-Bhāgavatam, the vibrations themselves have such power that simply by chanting one will be purified. Sṛṇvatāṁ sva-kathāḥ kṛṣṇaḥ puṇya-śravaṇa-kīrtanaḥ [SB 1.2.17]. The word puṇya means “pious,” śravaṇa means “hearing,” and kīrtana means “chanting.” One who chants or hears the verses of Śrīmad-Bhāgavatam becomes pious automatically. To become pious one generally has to endeavor a great deal, but if one simply hears the verses of Śrīmad-Bhāgavatam or Bhagavad-gītā one becomes pious automatically. Therefore it is a rigid principle in every temple of our Kṛṣṇa consciousness movement that there must be a daily class for hearing and chanting. Our movement is meant for training spiritual leaders, but without hearing and chanting it is impossible to become a leader. Of course, in the material world it is possible, but not in the spiritual world.
mālī hañā sei bīja kare āropaṇa
śravaṇa-kīrtana jale karaye secana
(Cc. Madhya 19.152)
Hearing and chanting waters the seed of devotional service, which develops one’s original consciousness.
So here, in these prayers, Kuntīdevī, a great devotee, is giving us an opportunity to become Kṛṣṇa conscious simply by concentrating our mind on paṅkaja, the lotus flower. Paṅka means “mud,” and ja means “generate.” Although the lotus flower is generated from mud, it is a most important flower, and Kṛṣṇa likes it very much. Kuntīdevī therefore describes all the parts of Kṛṣṇa’s body with reference to lotus flowers, so that as soon as one sees a lotus flower one will immediately think of Kṛṣṇa: “Oh, Kṛṣṇa’s navel is just like a lotus, and from Kṛṣṇa’s navel grew the stem of the lotus upon which Brahmā, the creator of this universe, was born. This universe includes so many planets, seas, mountains, and cities with motorcars and other paraphernalia, but the entire universe began from that lotus.”
Namaḥ paṅkaja-māline. From Kṛṣṇa comes the wonderful lotus flower that contains the seed of the entire universe. But He is not the source of only one such flower. Kṛṣṇa is not so poor that He simply produces one lotus flower and then is finished. No. Just as there may be a garland with many flowers, Kṛṣṇa is the source of innumerable universes, which may be compared to a big garland of lotuses. This is God. Yasyaika-niśvasita-kālam athāvalambya/ jīvanti loma-vilajā jagad-aṇḍa-nāthāḥ (Brahma-saṁhitā 5.48). Kṛṣṇa is unlimited. We are very much concerned with this one planet, but Kṛṣṇa’s creation contains an unlimited number of planets. We cannot count how many planets there are, any more than one can count how many hairs there are on one’s head. This is the nature of Kṛṣṇa’s creation. To give another example, on one tree there is an unlimited number of leaves. Similarly, there is an unlimited number of planets, and there are unlimited universes. Therefore, Kṛṣṇa is unlimited.
Kṛṣṇa’s navel resembles a lotus, He is garlanded with lotuses, and His eyes are also compared to the petals of a lotus (ālola-candraka-lasad-vanamālya-vaṁśī [Bs. 5.31]. So if we simply think of only this one verse, which describes Kṛṣṇa’s body with reference to the lotus, we can meditate our whole life on how beautiful Kṛṣṇa is, how wise Kṛṣṇa is, and how Kṛṣṇa manifests His creation. This is meditation—thinking of Kṛṣṇa. Dhyānāvasthita-tad-gatena manasā paśyanti ’yam-yoginaḥ [SB 12.13.1]. A yogī is one who always thinks of Kṛṣṇa.
Those who think of something impersonal are not yogīs. Their meditation simply involves undergoing more and more labor (kleśo ’dhikataras teṣām avyaktāsakta-cetasām [Bg. 12.5]), and they cannot reach anything substantial. Therefore after meditation they say, “Come on, give me a cigarette. Come on, my throat is now dry. Give me a cigarette.” That is not meditation. Meditation means thinking of Kṛṣṇa always (satataṁ cintayanto mām) and endeavoring to advance in Kṛṣṇa consciousness with a firm vow (yatantaś ca dṛḍha-vratāḥ).
We have to be purified. Paraṁ brahma paraṁ dhāma pavitraṁ paramaṁ bhavān [Bg. 10.12]. Because Kṛṣṇa is pure, we cannot approach Kṛṣṇa impurely. But if we think of Kṛṣṇa always and meditate upon Kṛṣṇa, then we shall be purified. Puṇya-śravaṇa-kīrtanaḥ. That meditation can be possible by hearing and chanting, and then thinking of Kṛṣṇa will automatically come. That is the process of Kṛṣṇa consciousness. Śravaṇaṁ kīrtanaṁ viṣṇoḥ smaraṇam [SB 7.5.23]. The word smaraṇam means “remembering.” If we chant and hear, then remembrance will automatically come, and then we shall engage in worshiping Kṛṣṇa’s lotus feet (sevanam). Then we shall engage in the temple worship (arcanam) and offering prayers (vandanam). We shall engage ourselves as Kṛṣṇa’s servants (dāsyam), we shall become Kṛṣṇa’s friends (sakhyam), and we shall surrender everything to Kṛṣṇa (ātma-nivedanam). This is the process of Kṛṣṇa consciousness.
Photo

" सब जानत प्रभु, प्रभुता सोई, तदपि कहे बिनु, रहा न कोई

Monday, April 17, 2017

" एक थी तरू " पुस्तक आदरणीया माँ जी श्रीमती सरस्वती प्रसाद जी ' की स्मृति में


" एक थी तरू  " पुस्तक आदरणीया माँ जी 
श्रीमती सरस्वती  प्रसाद जी ' की स्मृति में मातृ तर्पण  रूपी पुस्तक, माँ जी की पुत्री लेखिका रश्मि प्रभा जी ने छपवाई है। 

सौ. रश्मि प्रभा जी ने जब मुझे  भूमिका लिखने का आग्रह किया तब मैंने यह आलेख लिखा। 
" आज , मैं , लावण्या , परम आदरणीया माँ जी ' श्रीमती सरस्वती  प्रसाद जी ' की स्मृतियों की बगिया में सैर करने निकली हूँ। अमरीका में दिसंबर का महीना है और बाहर  ६ इंच बर्फ गिरी है।   स्वच्छ , धवल बर्फ की सफेदी चारों ओर  हर वस्तु को अपने में समेटे शांत है। शान्ति बिखरी हुई है। प्रकृति  निस्तब्धता के परों  पर चतुर्दिक फ़ैली हुई है !  
मेरे प्रिय भारत से, मेरी भौगोलिक दूरियाँ मीलों लम्बी हैं और सात समुन्दर पार बैठी हुई मैं, आज माँ जी स्व . सरस्वती  प्रसाद जी के हिंदी ब्लॉग मैं और मेरी सोच...को पढ़ रही हूँ ! 
सच,  आधुनिक युग के आविष्कार www या इंटरनेट के जरीये,यह  सम्पूर्ण विश्व एक घर सा प्रतीत होता है।  विश्व के हर कोने से लिखे जा रहे, ब्लॉग याने  जाल घरों को हम कहीं से भी पढ़ पाते हैं और कितना कुछ जान लेते हैं ! 
एक सजग रचनाकारा, एक भावपूर्ण कवयित्री, सशक्त लेखिका और एक वात्स्ल्यमयी  माँ और गर्विता पत्नी की छवि  माँ जी सरस्वती जी के लेखन से उजागर है। एक के बाद एक उनकी प्रविष्टियों को पढ़ते हुए उनकी भव्य एवं पावन जीवन यात्रा की मनोरम छवि, इंटरनेट के माध्यम से, दूर से ही भले, मैं  देख रही हूँ पढ़ रही हूँ और मन हर्षित है! जब कभी हम कुछ ऐसा पढ़ते हैं जो हमारे अंतर्मन को छू जाता है तब ऐसे ही भाव ह्रदय में हिलोर लेते हैं ! 
      
मेरे सामने खुला है उनका एक रंगीन चित्र ! उनके भावपूर्ण शब्द और उनकी पसंद का गीत लिंक स्वर साम्राज्ञी लता दीदी जी के सुमधुर स्वरों में बज रहा है - ' मेरा छोटा सा देखो ये संसार है ' .... गीत की स्वर लहरियों को  सुन  कर मेरे नयन बार बार, अनायास सजल हो उठते हैं ! मेरे मन में श्रध्धा का भाव उमड़ रहा है !
 परन्तु एक प्रेम की प्रतिमा , एक वात्सल्य की देवी स्वरूपा माँ को कोइ किन शब्दों में याद करते हुए अंजलि दे ? यही सोच रही हूँ ! जब मैं अपनी भावांजलि माँ जी सरस्वती  जी को दे रही हूँ  … 
        
मेरी अनुजा एक सजग, उर्मिशील रचनाकार सौ . रश्मि प्रभा के आग्रह पर उनकी तथा मेरी, परम आदरणीया माता जी सरस्वती सदृश माँ जी की पुस्तक के लिए यह आलेख लिख रही हूँ।
गहन  सोच में लीन हो आखिरकार इस निष्कर्ष पर पहुँची हूँ कि, माँ जी के शब्दों से ही आपको उनका परिचय करवाऊं, यही सबसे अच्छा रहेगा। 

सो आगे, उन्हीं की वाणी को, मुखर किये देती हूँ। माँ जी के ब्लॉग से चुन चुन कर आप के संग श्रध्धा सुमन बाँट रही हूँ।
छायावाद के सुप्रसिध्ध स्तम्भ कविराज श्री सुमित्रानंदन पंत जी को मैं , ' दादा जी ' पुकारा करती थी।  मेरे पिता जी, स्व. पंडित नरेंद्र शर्मा और पंत जी दादा जी में अपूर्व घनिष्ठता थी। प्रबुध्ध रचनाकारा सुश्री सरस्वती जी के पारिवारिक संबंध भी पंत जी दादा जी के संग वैसे ही मधुर रहे हैं जैसे हमारे परिवार के संग रहे हैं । अत : हम दोनों परिवार  श्रद्धेय ' पंत ' जी की स्नेहाशीष रूपी रश्मि की डोरों से बंधे हुए हैं।
माँ जी सरस्वती जी की बिटिया
 का नामकरण  ' रश्मि प्रभा '  भी पंत जी के वरद मन का दिव्य प्रसाद है ! ये पंत जी जैसे ' हिंदी भाषा के संत कविवर की विलक्षण प्रतिभा की एक झलक मात्र है पंत जी ने कुछ चुने हुए विलक्षण नाम दिए हैं। पहले भी ' रश्मि प्रभा '  जैसा एक काव्यात्मक , अनोखा नाम चुन कर रखा था पंत जी ने याद दिलाऊं ? एक और  नाम पंत जी का दिया हुआ है - ' अमिताभ ' ! 
अब चलें माँ जी के शब्दों में उनके  अंतर्मन की यात्रा की और चलें  ~~~ 
 
पूजनीया  जी के शब्द  :   आप भी सुनें। 

' आरा शहर की एक संकरी सी गली के तिमंजिले मकान में मेरा जन्म २८ अगस्त को हुआ था। समय के चाक पर निर्माण कार्य चलता रहा। किसी ने बुलाया 'तरु' (क्योंकि माता-पिता की इकलौती संतान होने के नाते मैं उनकी आंखों का तारा थी)। स्कूल (पाठशाला) में नामांकन हुआ 'सरस्वती' और मेरी पहचान - सरू,तरु में हुई।  ' 
 कवि पन्त ने मुझे अपनी बेटी माना...और तभी संकलन निकालने का सुझाव दिया, इस आश्वासन के साथ  की भूमिका वे लिखेंगे.. मेरी रचना "नदी पुकारे सागर" हाल में प्रकाशित हुई..

मेरे मान्य पिता श्री. पन्त इसकी भूमिका नहीं लिख सके पर उनकी अप्रकाशित कविता जो उन्होंने मेरे प्रयाग आगमन पर लिखी थी..इस संकलन में हैं जो भूमिका की भूमिका से बढ़कर हैं...'   
वे आगे लिखतीं हैं ~~~ 
' मेरी आँखें बहुत सवेरे पड़ोस में रहनेवाली नानी की 'पराती' से खिलती थी। नानी का क्रमवार भजन मेरे अन्दर अनोखे सुख का संचार करता था । मुंह अंधेरे गलियों में फेरा लगनेवाले फ़कीर की सुमधुर आवाज़ इकतारे पर - 
' कंकड़ चुन-चुन महल बनाया
लोग कहे घर मेरा है जी प्यारी दुनिया
ना घर मेरा ना घर तेरा , 
चिडिया रैन बसेरा जी
प्यारी दुनिया ......' । 
मेरे बाल-मन में किसी अज्ञात चिंतन का बीजारोपण करती गई। फ़कीर की जादुई आवाज़ के पीछे - पीछे मेरा मन दूर तक निकल जाता था।
मुझे लगता था सूरज का रथ मेरी छत पर सबसे पहले उतरता है। चाँद अपनी चांदनी की बारिश मेरे आँगन में करता है। तभी मैं अपने साथियों के साथ 'अंधेरिया-अंजोरिया'का खेल खेलते हुए मुठ्ठी में चांदनी भर-भर कर फ्रॉक की जेब में डालती थी और खेल ख़त्म होने पर उस चांदनी को निकालकर माँ के गद्दे के नीचे छुपा देती थी....' 
आगे 
' उम्र के २५ वे मोड़ पर आकर मेरी कलम ने लिखा -
"शून्य में भी कौन मुझसे बोलता है,
मैं तुम्हारा हूँ, तुम्हारा हूँ
किसकी आँखें मुझको प्रतिपल झांकती हैं
जैसे कि चिरकाल से पहचानती हैं
कौन झंकृत करके मन के तार मुझसे बोलता है
मैं तुम्हारा हूँ,तुम्हारा हूँ.........."

आगे ,
मैं घर गृहस्थी के साथ १९६१ में कॉलेज की छात्रा बनी । हिन्दी प्रतिष्ठा की छात्रा होने के बाद कविवर पन्त की रचनाएं मेरा प्रिय विषय बनीं । ६२ में साथियों ने ग्रीष्मावकाश के पहले सबको टाइटिल दिया ।कॉमन रूम में पहुँची तो सबों ने समवेत स्वर में कहा ' लो, पन्त की बेटी आ गई'...... अब ना मेरी माँ थी और ना बाबूजी । साथियों ने मुझे पन्त की बेटी बनाकर मेरी भावनाओं को पिता के समीप पहुँचा दिया। उस दिन कॉलेज से घर जाते हुए उड़ते पत्तों को देखकर होठों पर ये पंक्तियाँ आई ," कभी उड़ते पत्तों के संग,मुझे मिलते मेरे सुकुमार"......
"उठा तब लहरों से कर मौन
निमंत्रण देता मुझको कौन"..........
अगले ही दिन मैंने पन्त जी को पत्र लिखा , पत्रोत्तर इतनी जल्दी मिलेगा-इसकी उम्मीद नहीं थी। कल्पना ऐसे साकार होगी,ये तो सोचा भी नहीं था.....'बेटी' संबोधन के साथ उनका स्नेह भरा शब्द मुझे जैसे सपनों की दुनिया में ले गया। अब मैं कुछ लिखती तो उनको भेजती थी,वे मेरी प्रेरणा बन गए । वे कभी अल्मोडा भी जाते तो वहां से मुझे लिखते.......हमारा पत्र-व्यवहार चलता रहा। पिता के प्यार पर उस दिन मुझे गर्व हुआ , जिस दिन प्रेस से आने पर 'लोकायतन' की पहली प्रति मेरे पास भेजी,जिस पर लिखा था 'बेटी सरस्वती को प्यार के साथ'
फिर , और आगे , 
M.A में नामांकन के बाद ही मेरे साथ बहुत बड़ी दुर्घटना हो गई,अचानक ही हम भंवर में डूब गए - इसके बाद ही हम इलाहबाद गए थे। पिता पन्त जब सामने आए तो मुझे यही लगा , जैसे हम किसी स्वर्ग से उतरे देवदूत को देख रहे हैं। उनका हमें आश्वासित करना,एक-एक मृदु व्यवहार घर आए कुछ साहित्यकारों से मुझे परिचित करवाना,मेरी बेटी को रश्मि नाम देना, और बच्चों के नाम सुंदर पंक्तियाँ लिखना और मेरे नाम एक पूरी कविता....
जिसके नीचे लिखा है 'बेटी सरस्वती के प्रयाग आगमन पर' यह सबकुछ मेरे लिए अमूल्य धरोहर है। उन्होंने मुझे काव्य-संग्रह निकालने की सलाह भी दी,भूमिका वे स्वयं लिखते,पर यह नहीं हो पाया। ' 
 सरस्वती  जी के काव्योद्गार : 
' डूबते चाँद का पता पूछो
 एक मुसाफिर यहीं पे सोया है
 नभ की खिड़की से सर टिका करके
 जाने कौन सारी रात रोया है! '


यह मैं हूँ...


ज़िंदगी के मेले में - " अपनी खुशी न आए थे " पर आए।  किसी ने बुलाया ' सरु ' , किसी ने ' तरु ' और इसी के साथ माता - पिता के इकलौती बेटी की एक पहचान बन गई। अपना खेल , कौतुक , कौतुहल ... मैं वह छोटी चिडिया बन जाती थी जो अपनी क्षमता से अनभिज्ञ नभ के अछोर विस्तार को माप लेना चाहती हैं।  


मेरा एक प्यारा सा खेल था कुछ एक खाली कमरों में दौड़ लगते मैं ज़ोर से आवाज़ देती थी - माँ sssssssssssssssssssssssssss............. उसकी गूँज मुझे रोमांचित और विस्मृत करती थी।  बाद में माँ ने मेरे प्रश्न पर बताया - मेरे साथ वह बोलती हैं। हर्षातिरेक से भर कर मैं उससे लिपट गई थी। आगे चल कर मेरी यही सोच मेरे शब्दों में उतरी - 

एक और भक्ति भाव से पूरित कविता - जिसका शीर्षक है ~~ ' दाता  '

लकी नींद के आगोश से रात १२.१५ में उठकर लिखने पर विवश सी हो गई.......
शायद मैंने हाथ बढाये थे-
दर्द का दान देकर तुमने मुझे विदा कर दिया !
यह दर्द, निर्धूम दीपशिखा के लौ की तरह
तुम्हारे मन्दिर में अहर्निश जलता है।
कौन जाने, कल की सुबह मिले ना मिले
अक्सर तुमसे कुछ कहने की तीव्रता होती है
पर.......... सोचते ही सोचते,
वृंत से टूटे सुमन की तरह
तुम्हारे चरणों में अर्पित हो जाती हूँ ! '


जो स्नेह करता हैं,
वही दुःख पाता हैं,
उसकी ही साँसें गिनती हैं घड़ियाँ,
वही चुना करता हैं,
आँसुओं के फूल,
छेड़ दिल के तारों को,
दर्द भरा गीत वही गाता हैं,
जो स्नेह करता हैं,
वही दुःख पाता हैं!
माना कि तुम-कोई कवि नहीं हो,
पर स्नेहसिक्त अनुभूतियों से अजनबी नहीं हो-
इस बात को तुम कैसे झुठलाओगे?
-नदी के उस पार ,
जब विश्वास का दिया जलता हैं,
तो सुना हैं मैंने-
"टूटा हुआ आदमी भी चलता हैं!"

"बेटी सरस्वती (यानी मैं) के प्रयाग आगमन पर!"

विजयादशमी का दिन था वह। पितृवत पन्त के पास बैठी थी मैं , कितनी कवितायेँ गा-गा कर उन्होने सुनाई।मेरे आग्रह पर - यह सुप्रसिद्ध रचना भी सुनाई "यह धरती कितना देती हैं" मेरी छोटी बेटी मिन्नी को नाम दिया - रश्मि। हमारी उपस्थिति में वहाँ प्रेमचंद जी के सुपुत्र अमृतराय जी आये तो पन्त जी ने परिचय दिया - "आओ अमृत,इनसे मिलो ,यह मेरी बेटी सरस्वती हैं.मुझसे मिलने सपरिवार आई हैं." महादेवी जी से फ़ोन पर उनकी बातें हुई.कभी-कभी यथार्थ भी स्वप्नवत लगता है-हम वहाँ हो कर भी जैसे किसी स्वप्नलोक में विचरण कर रहे थे...उनके आग्रह पर खाया,साथ-साथ चाय पी। "भरतमिलाप" देखने चलने को उन्होने कहा पर हमें लौटना था और...!हमें विदा करने आये तो अपनी गेट पे तब तक खड़े रहे जब तक हम आँखों से ओझल न हुए । "लोकायतन" की पहली प्रति मुझे उपहार स्वरूप भेजी । "चिदाम्बरा" पर जब पुरस्कार मिला तो मुझे लिख भेजा - "कुछ मांगो"।
दिल के दौरे के बाद जब डॉक्टर ने उन्हें लिखने को मना किया तो उनके पत्रों का आना कम हो गया और फिर... वे रहे नहीं। दाता की अनुपम देन है यह कि मेरी ज़िन्दगी की पुस्तक में इतने मधुरतम क्षण अंकित हैं। ' 
आदरणीया माँ जी सरस्वती  जी की यह , भावपूर्ण  कविता जो उनके जीवन का दर्पण है , 
 सुनाते हुए आपसे सादर स स्नेह विदा लेती हूँ 
 ' मैंने बहुत प्यार किया हैं
 अपनी माँ को , अपने दोस्तों को , पास - पड़ोस को ,
 परिवार को …..
बिना सोचे समझे ख़ुद को न्योछावर किया हैं !!!
हर बार
मन की छोटी चिडिया फुर्र्र्र्र से उड़कर वहाँ पहुच जाती हैं
जहाँ बचपन बीता था
कोई पकड़ लेगा , इस बात का
डर नही लगता !
तुम मानो या न मानो
हमारे पास तितलियों के पंखो जैसे
कुछ मोहक सपने थे
सपने , जो पराये नही अपने थे .
आज हम जहाँ से गुजर रहे हैं
जिधर से गुजर रहे हैं
बेशुमार भीड़ हैं , शोर हैं , भागम भाग हैं
सभी के पास समय का आभाव हैं
किसी के पास पल दो पल ठहरना
किसी के मन की बात सुनना
इतना अवकाश हैं कहाँ ???
संबंधो के रेशमी ताने - बाने
जो भटकते मन को एक ठहराव देते थे
माथे की शिकन को
अपने स्नेहिल स्पर्श से मिटा देते थे वो अपनी अलग पहचान बनाने को
मुखौटों में जीने लगे हैं !
यहाँ हर चीज़ मुँह मांगी कीमत देकर
खरीदी जा सकती हैं
सिर्फ़ चाहने भर की बात हैं !
तुम शायद सोचते हो ,
इन सहज उपलब्धियों को देख कर
मुझे ईर्ष्या हैं , इसलिए दुःख हैं ...
किसी का सच ,
कौन पढ़ पाता हैं भला ?
और वह सच
धड़कते दिल के भीतर
बस , एक धड़कन बन कर रह जाता हैं !
इश्वर न करे , ऐसी नियति
कभी किसी को मिले
इसका दर्द मैंने सहा हैं ,
अकेलेपन को भूलने के लिए 
यादों को साथी बनाया हैं
कलम से दोस्ती की हैं
अगर यह भी नही होता
तो मैं क्या करती ?
मन की दशा भरे भरे मेघों सी हैं
यह कहीं खुल कर बरस जाना चाहता हैं
छोटी चिडिया तिल्लियों को तोड़ कर
उड़ जाना चाहती हैं !
माँ जी सरस्वती  जी की यह ,भावपूर्ण  कविता जो उनके जीवन का दर्पण है , 
 सुनाते हुए आपसे सादर स स्नेह विदा लेती हूँ  ~~ 
तुम यहाँ जब भी आओ
आज या कल या बरसों बाद
पाओगे दरवाज़े पर बैठी दो प्रतीक्षित आँखें
खारे पानी में तिरती
दो बेचैन पुतलियाँ एक माँ की...
जिसका बेटा कह कर गया
"ठहरो माँ मैं अभी आया"
चाहे तुम जब भी आओ..
आज या कल या बरसों बाद....
कलरव में डूबी भोर हो...
या अंगारे उगलती दोपहर...
बरसती हुई शाम हो या ठिठुरती हुई रात...
ये प्रतीक्षारत आँखें
कभी हटती नहीं, थकती नहीं, झिपती नहीं...
ध्यानावस्थित बैठी रहती हैं...
निराश नहीं होती...
ये दो आँखें,माँ की हैं न...
जिसका बेटा कह कर गया...
"ठहरो माँ मैं अभी आया"
तुम यहाँ जब भी आओ
आज या कल या बरसों बाद
पाओगे किसी बेसहारा टूटे सितारे सी एक भटकती आत्मा...
घर के इर्द गिर्द,पास पड़ोस पिछवाडे..
रूंधे कंठ से घर लौट आने वाले को आवाज़ देती हुई
दरवाज़े पर बैठी दो प्रतीक्षित आँखें...
खारे पानी में तिरती दो बेचैन पुतलियाँ' 
एक माँ की...
जिसका बेटा कह कर गया
"ठहरो माँ मैं अभी आया"
- सरस्वती प्रसाद
(प्रकाशित "नदी पुकारे सागर" में)











संकलन - सुश्री रश्मि प्रभा जी के सौजन्य से 
आलेख संरचना : श्रीमती लावण्या दीपक शाह 
 सम्प्रति : ओहायो , यु .एस .ए  से 
ई मेल : Lavnis@gmail.com