Sunday, September 16, 2007

सास भी कभी बहु थी ! बच्चन परिवार की झाँकी :)


जब गुड्डी जया भादुरी दुल्हन बनीँ अमिताभ बच्चन कीँश्रीमती तेजी हरिवँशराय बच्चन अपने बडे पुत्र अमिताभ के साथ

आज्ञाकारी बेटी, आदर्श नँदा परिवार की बहु,
पुत्री नव्य नवेली + पुत्र अगत्स्य की मम्मी श्वेताम्बरा निखिल नँदासास भी कभी बहु थी ! ;-))
जया , श्वेता नँदा और ऐश्वर्या, अभिषेक के साथ, मँदिर मेँ पूजा करते हुए
**********************************************
अरे ये ना समझेँ कि बस .
..इतने फोटो दीखला दिये और बात खतम .
.किस्सा खतम , खाना हजम ..
..नहीँ जी ! :)
फिर लौटेँगेँ ...
कूछ सनहरी यादोँ के साथ ...
जैसा सुझाया है मेरी भाभी ,रजनी भार्गव जी ने
अभी हिन्दी ब्लोग ~~ जगत मेँ यादेँ बाँट लूँ ..
फिर , भविष्य मेँ मेरे सँस्मरणोँ की पुस्तक भी आ ही जायेगी इन्शाल्लाह ! :))

19 comments:

Udan Tashtari said...

समय कितना तेज बदलता है?? है न??

Divine India said...

आदरणीय मै'म,
यह प्रस्तुति भी लाजवाब रही…
यही तो चक्र है जीवन का गोल चक्र पुन: नवीनता दूसरे कदमों से आहट देने लग जाती है…।

Neeraj Diwan said...

सुनहरे पल.. अच्छा लगा

Pratyaksha said...

बढिया !

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

यप्प्प्प ...समीर भाई,
बहता पानी है, ये समय का दरिया :)
-- लावण्या

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

दीव्याभ,
आम्ख झपकते ही कली से फूल बन जाती है और उसी के फूल के मुर्झाते
नई कोँपल फूटती दीखलाई देती है ~ यही जीवन चक्र है !
-- लावण्या

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

शुक्रिया नीरज जी ...

-- लावण्या

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

अरे वाह प्रत्यक्षा आज आईँ हैँ तो बडा अच्छा लगा ! :)
-- लावण्या

Dr.Bhawna said...

लावन्या जी बहुत अच्छा लगा ये सब देख, पढ़कर !

Rachna Singh said...

mam
when you have some time on hands please do visit my blog and let me have your valuable feedback/comments
thanks http://mypoemsmyemotions.blogspot.com/

Harshad Jangla said...

Lavanyaji

Great collections!
Interesting episode too.
Rgds!

Manish Kumar said...

पहली तसवीर तो लाजवाब है ! शुक्रिया इन्हें बाँटने का लावण्या जी ।

deepanjali said...

आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा.
ऎसेही लिखेते रहिये.
क्यों न आप अपना ब्लोग ब्लोगअड्डा में शामिल कर के अपने विचार ऒंर लोगों तक पहुंचाते.
जो हमे अच्छा लगे.
वो सबको पता चले.
ऎसा छोटासा प्रयास है.
हमारे इस प्रयास में.
आप भी शामिल हो जाइयॆ.
एक बार ब्लोग अड्डा में आके देखिये.

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

भावना जी, आपका आगमन देखकर प्रसन्नता हुई
स ~~ स्नेह,
-- लावण्या

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

Harshad bhai,
Thank you ~`
Rgds,
L

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

मनीष जी,
हाँ यह पारिवारीक तस्वीर सत्य के नजदीक है और शादी के बस कुछ ही पलोँ के बाद ली गई है.
स ~~स्नेह,
-- लावण्या

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

दीपाँजलि जी,
धन्यवाद
स ~~स्नेह,
-- लावण्या

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

रचना जी,
धन्यवादआपका ब्लोग भी देखा और अहुत खुशी हुई.
स ~~स्नेह,
-- लावण्या

Batangad said...

क्या बात है। खूबसूरत झांकी है।