Thursday, March 20, 2008

" राधा के गोरे गोरे गाल , उस पे मोहन ने मल्यो गुलाल ,


बृज का रसिया खेले होरी 
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

 राधा : स्वगत :  नाइन के भेस श्याम पायन पखार के ,
एडींन महावर सुरंग अंग दिनों है !
सकुची सलोनी सुकुमार नार , हा ये लाज
आज ब्रिजराजा मेरे काज इत कीनो है ! )
" राधा के गोरे गोरे गाल , उस पे मोहन ने मल्यो गुलाल ,
हो , मोहन मुरली वाले ने , राधे , रंग में रंग डारी !
राधे रंग में रंग डारी
खडी नन्द जू की उजरी अटारी ,

भोरी राधा लागे प्यारी प्यारी
मोहन मुरली वाले ने  राधे रंग में रंग डारी
छम्म छम्म बाजे पायलिया औ ' धिन्न धिन्न बाजे पखवाज
नाचें ताल दै , नगर की नारी , नाचे वृद्ध अरु बाल ,
मोहन मुरली वाले ने राधे रंग में रंग डारी
चुनरी बचा के भाभी चल दीं , माँ - भाभी मैं तो पे निहाल !
जन जन नाच रहा दई ताल कि ,
मोहन मुरली वाले ने राधे रंग में रंग डारी .........
राधे रंग में रंग डारी
भींजी राधा काँपे हुई बेहाल , मोहन ने चुटकी ली काट ओर
अंबर पे उडे रि केसर मिश्रित गुलाल , की मोहन मुरली वाले ने ॥

भोरी , राधे रंग में रंग डारी
........................................................................
( प्रथम ४ पंक्तियाँ बृज साहित्य से साभार )
( - लावण्या )

11 comments:

Gyandutt Pandey said...

नाइन के भेस श्याम?! यह प्रसंग तो हमें मालुम ही नहीं था।
बढ़िया पोस्ट और बढ़िया चित्र।

अनूप शुक्ल said...

बढि़ पोस्ट है। गोरे गाल-गुलाल के क्या कहने!

रंजू said...

होली की बधाई ..बहुत ही प्यारी रचना लगी ..होली का रंग श्याम की बात के बिना वैसे भी अधूरा है :)

Aflatoon said...

लावण्या जी , शुभ होली ।

रवीन्द्र प्रभात said...

बढिया है , आपको होली की कोटिश: बधाईयाँ !

कंचन सिंह चौहान said...

अहा .....सुंदर.....!

कंचन सिंह चौहान said...
This comment has been removed by the author.
Harshad Jangla said...

Lavanyaji

Happy Holi festival to all of u.
Those first four lines need to have a small explanation plz.
What is Naiin?

Dumuro said...
This comment has been removed by a blog administrator.
जोशिम said...

लावण्या जी - होली की शुभ कामनाएं सादर - मनीष

Lavanyam - Antarman said...

सभी महानुभावों के प्रति सा स्नेह ...धन्यवाद -
Rgds,
L