Monday, January 26, 2009

भारत की एक बिटिया

पीर विलायत खाँ का जन्म सन्` १९१६ मँ लँदन मेँ हुआ था और वे भारत के सुप्रसिध्ध सँगीतज्ञ हज़रत इनायत खाँ साहब के बेटे थे -
अँतर धर्म समुदाय की बैठक की पार्लियामेन्ट ओफ वर्ल्ड रीलीजन उन्हेँ होलीस्टर सम्मान से, बार्सीलोनिया शहर मेँ नवाजनेवाली थी --
८८ साल की आयु मेँ सुरेन्ज़, नामक शहर जो पेरिस , फ्रान्स की राजधानी से कुछ मीलोँ की दूरी पर है वहाँ पीर विलायत खाँ साहब जो सुफी धर्म के प्रमुख और वक्ता थे उन्होँने , आखिरी साँसेँ लीँ
 दिन था जुन १६, २००४, उनके ८८ वेँ जन्म दिन से २ दिन पहले का !

नाडिया बोलेन्गर नामक सँगीत मर्मज्ञ से चेलो वाध्य की विलायत खाँ ने शिक्षा ली थी --
फ्रान्स की विख्यात सोर्बोर्न अकादमी से उन्होँने मनोविज्ञान विषय की शिक्षा भी ली थी
उनकी बडी बहन नूर और विलायत खाँ ने ब्रिटीश सता की द्वीतीय विश्व युध्ध के समय सहायता करने की ठानी
नुर ने " मेडेलीन " नाम अपनाया !

नुर आका मेडेलीन फ्रान्स और ब्रिटीश सत्ता के लिये बहादुर नायिका बनीँ -
विलायत बम विस्फोटक बँकर की सफाई करते हुए घमासान युध्ध के इलाके , नोर्मन्डी मेँ
" डी -डे "मेँ बम का शिकार हुए थे

१९५० मे साल मेँ अमरीका के न्यू - योर्क शहर मेँ पीर विलायत खाँ साहब ने सूफी सँप्रदाय की शाखाएँ खोलीँ -
 जिनके नाम थे , " ओमेगा इन्स्टीट्यट " और 
 " अबोड ओफ ध मेसेज " !
सन्` १९७० और १९७८ मेँ उनकी कई पुस्तकेँ सूफी सँप्रदाय के बारे मेँ प्रकाशित हुईँ -
 " कोल ओफ ध दरवेश " १९८१ मेँ छपी थी -
साइकोथेरिपी सँबँधित पुस्तकेँ छपी थी
( Introducing Spirituality into Counseling and Psychotherapy (1982),
That which Transpires through that Which Appears (1994), Awakening
(1999), and finally, in 2003,
 In Search of the Hidden Treasure, a wide-ranging exploration of Sufi teachings in the form of an imagined
congress of Sufis through the ages.)

भारत मेँ भी पीर विलायत खाँ साहब ने योग सँबधित,  ध्यान पर केन्द्रीत साधना सीखीँ तथा अन्य कई धर्म गुरुओँ से मुलाकातेँ करते हुए भ्रमण किया था
 बौध्ध, यहूदी, क्रिश्चीयन हिन्दू सभी धर्मोँ का ऐक्य उन्होँने अनुभव किया और सूफी सँप्रदाय की नीँव मजबूत की
१९६५ से वे अँतर धर्मोँ की बैठकोँ का आयोजन कर,  परस्पर समभाव का प्रचार प्रसार करते रहे..

वैज्ञानिकोँ से भी अक्सर धर्म और विज्ञान सँबँधी विस्तृत बातचीत करते रहते...

ध्यान कैम्प आल्प्स पर्बत की छाया मेँ शिबिर का अयोजन कर किया करते रहे
और अमरीका मेँ भी किये जहाँ हज़ारोँ लोगोँ ने ध्यान और योग सीखा
उनकी पत्नी मेरी वोल्स थीँ जिन के सँग ५० वर्ष साथ बिताये
बहन क्लेर हार्पर थीँ और भाई थे हिदायत खाँ
पुत्री मारिया और पुत्र ज़िया उन के वारिस हैँ और पीर विलायत खाँ के शरीर को उनके पिताजी की कबर के पास भारत ले जाकर दफनाया गया

ज्यादा जानकारी के लिये यहाँ क्लिक करेँ और देखेँ
Additional information can be found @ PirVilayat.org, Universel.net,
and

अब कथा मेँ आतीँ हैँ राजकुमारी नुर

- इस कथा का फलक अति विशाल है -
कथा के पात्र रशिया से चलकर प्रथम विश्व युध्ध से पहले
नुर अपने माता पिता और ३ भाई बहनोँ के साथ पेरिस पहुँची थी

१९१४ मेँ वे लँदन चले गये
१९२० मेँ दुबारा पेरिस फ्रान्स की राजधानी लौट आये
जहाँ नुर सँगीत और कविता सीखती रही
१९४० मेँ जब नुर के परिवार ने युध्ध स्थल बने पेरिस को छोडा
तब तक नुर की प्रथम पुस्तक
" २० जातक कथाएँ " छप चुकी थी
लँदन मेँ वायर - लेस ओपरेटर का काम नुर की रुचि के मुताबिक निकला
वुमेन्स ओक्ज़ीलरी फोर्स से नुर जुडीँ
और बहुत बाद मेँ डायरेक्टर पद पर भी आसीन हुईँ
ब्रिटेन की सरकार ने नुरुन्नीसा को मृत्यु के बाद सर्वोच्च सम्मान " जोर्ज क्रोस " दिया और
फ्रान्स की सरकार ने उन्हेँ सबसे उच्च
" क्रोइक्स डी गुर्रे " सम्मान से नवाजा
भारत के सुरक्षा मँत्री श्री प्रणब मुखर्जी अपनी विदेश यात्रा के दौरान
जब फ्रान्स पहुँचे तब वे नुर के पुश्तैनी मकान
( at Rue de la Tulleries ) पहुँचे
और उन्हेँ सम्मान (मरणोपराँत) दिया !

अब आप सोच रहे होँगेँ , ऐसा क्यूँ ?
तो सुनिये,

नुर् उन्नीसा इनायत खाँ द्वीतीय विश्व युध्ध के सभी पात्रोँ के बीच
एक अति रहस्यमय और रोमाँचक पात्र रहीँ हैँ

मुस्लीम पिता और अमरीकी माँ की बेटी नुरुन्नीसा,  ब्रिटीश सता को आखिरी दिनोँ तक,  जर्मन सेना की गतिविधियोँ के बारे मेँ सूचना देतीँ रहीँ , आगाह करतीँ रहीँ और फ्रान्स जो हार गया था उसके लिये अपनी जान की बाजी लगातीँ रहीँ

नुरुन्नीसा के घर के बाहर फ्रान्स की सरकार हर १४ जुलाई के अपने राष्ट्रीय स्वतँत्रता दिवस के पावन अवसर पर ब्युगल बजाकर
 इस वीराँगना को सलामी देती है

सन १९४३ तक जब फ्रान्स की हिम्मत पस्त हो चुकी थी , नुर अँतिम जासूस थी जो बराबर शत्रु की हर चाल से ब्रीटनया और फ्रान्स और अब युध्ध मेँ शामिल हुए अमरीकी फौजी दस्तोँ को सही खबरोँ से आगाह करती रही -
अक्तूबर १९४३ को नुर को र्मन सेना के वरिष्ठ कमान्डरोँ ने बहुत अर्से बाद पक़ड लिया
नुर ने जेल से निकलने की कई असफल कोशिशेँ कीँ अँत मेँ उसे जर्मनी की जेल मेँ एकाँत वास मेँ सबसे खतरनाक कैदी की बहुत कडी सुरक्षावाली जेल मेँ रखा गया -
नुर से राज़ उगलवाने की नाकाम कोशिसेँ होतीँ रहीँ पर उसने मुँह नहीँ खोला तो नहीँ खोला
भयानक "डाचु कनसन्ट्रेशन कैम्प" मेँ आखिर सितम्बर १३, १९४४ के दिन नुर ने भीषण शारीरिक यातना से हार कर अपने प्राण खोये !



एक और विस्मयकारी क्रम ये है कि नुरुन्नीसा
 टीपु सुल्तान की वँशज थीँ उनकी पड़ पोती थी !
PRINCESS NOOR APPRECIATION SOCIETY INTERNATIONAL 1998
BEGUM NOOR CONNECTION


भारत के सुरक्षा मँत्री श्री प्रणब मुखर्जी ने वहाँ आगँतुक डायरी मेँ अपने मनोभाव व्यक्त करते हुए ये लिखा ~~~~
"Noor-un-Nisa Inayat Khan was an extraordinary heroic woman
who fought and gave her life for freedom and liberty,"
Mukherjee wrote on the
Visitor’s Book at her home on Monday.

फज़ल मँज़िल के पुश्तैनी मकान मेँ आज भी नुर का नाम लिखा हुआ है

NOOR INAYAT KHAN १९१४ -१९४४

Madeleine dans la Resistance
Fusillee a Dachau
operatrice-radio des reseaux Buckmaster
Croix de Guerre 1939-1945 George Cross

____________________________________________________________

Here lived Noor Inayat Khan 1914-1944
Called Madeleine in the Resistance
Shot at Dachau
Radio operator for the Buckmaster network
Awarded the French Croix de Guerre 1939-1945, and the English George Cross

____________________________________________________________

Additional Notes:

Many thanks to David Fideler at
caravansarai for this :-
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

She stood out among her schoolmates for her shyness. Her mysterious and
luminous glance and slightly tanned face could not fail to attract notice.
Undoubtedly she was intimidated by the teasing directed against any
unfamiliar child, yet she answered with an understanding and winning
smile. One could hardly believe that her mother was a blonde American with blue eyes, if it were not for certain hardly discernible features.
Her father had come from India and settled in Suresnes. This Eastern sage drew people from all corners of the world to Suresnes.
______________________________
______________________________

She so greatly gained the affection of her school pals that they elected her for the prize of "good comradeship." When she was twelve years old,
after the Master's death, she became a little mother to her brothers and sisters, as her mother was committed to bed for years, suffering from the
physical symptoms of a broken heart. All those who knew her had a deep respect for her and were moved by some endearing feature of her being.
Was it because she so deeply cared for all those she came across-even her jailers?
______________________________
______________________________

During the Second World War, this gentle girl distinguished herself by her courage as one of the heroes of the French Resistance. And yet, in
the middle of her greatest acts of courage she was afraid, which makes
her extreme courage the more remarkable. This should embolden those who
are afraid of being cowards when tested.
______________________________
______________________________

On the eve of the war, Noor and I conferred deeply and at length on the pros and cons of our participation in the war. The problem was the same
question asked today by conscientious objectors. We had been formed at
the school of our father, an Eastern sage and teacher. Behind him lay the entire tradition of Eastern spirituality. The then budding Gandhian
non-violent campaign had proven its effectiveness as a means of
confronting violence but was barely explored in the West. And was this
not the message of Christ? Was there not a contradiction in killing in
order to stop manslaughter? But suppose a Nazi should hold hostages at
gunpoint and starve them to death; it would be complicity in their murder if, having the means to kill the Nazi and unable to otherwise
prevent him from carrying out his deed, we abstained from doing it in
the name of non-violence। As we had that conversation, could we have ever imagined that one day Noor would find herself in the plight of the people she wanted to save?
______________________________
____________________________________________

In the face of the extermination of Jews, how could one preach spiritual morality without actively participating in preventive action?
The secret behind Noor's courage was the spiritual power inspired by our father,
Hazrat Inayat Khan:
spiritual idealism in action,
not just in words।

______________________________
____________________________________________

After our exodus from Paris, the convoys of cars were mowed down by the
machine guns of the Nazi pilots zooming at ground level during the embarkation at Bordeaux. We volunteered, Noor in the secret service
network linking up with the French underground, the Maquis, I as a
fighter pilot in the Royal Air Force. The secret service discovered
in Noor the ideal agent: she was bilingual and knew the French territory and French customs and so gentle that nobody could have
suspected her daring.
______________________________
_____________________________________________

During the intensive training at the limits of human endurance, Noor
distinguished herself by her perseverance. So much depended upon the
leverage applied by the French Underground from inside. At the critical
moment before the D-Day landing in Normandy she remained the last radio
operator on the Continent, ensuring the last link between the Allied
Headquarters and the French Underground. The life and death of millions
and the fate of generations after the war was to depend upon one
spirited by the vocation of a hero who accepted the risk of the supreme
sacrifice: torture.
______________________________
_______________________________________________

She was denounced by a "friend," a sister of a colleague in the network
who sold information about her whereabouts to the Gestapo for a fee of
approximately one thousand francs. The annals of her interrogation are
silent about the torture, but one gleans echoes that are filled with
terror. Her attempts to escape resulted in her being chained in a cold
prison in Pforzheim with one bowl of soup daily, made out of potato peel.
Her ordeal lasted until the very moment when, as the Allies advanced into
West German territory, they discovered the horrors of the concentration
camp. She was immolated at the extermination camp of Dachau a few days
before the Allies rescued those few who could still be saved from the
carnage. A witness affirms having seen the gauleiter try to coerce her
into saying, "Heil Hitler." She refused, saying, "The day will come
when you will see the truth," wherefore she was whipped to death.
  • लावण्या

18 comments:

Udan Tashtari said...

बहुत ही रोचक और दिलचस्प जानकारी. और अधिक जानने का मन हो आया. अब सारे लिंक खंगालेंगे. आपका कितना आभार कहें-इस तरह के जानकारीपूर्ण आलेखों के लिए.

आपको एवं आपके परिवार को गणतंत्र दिवस पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

लावण्या जी,
गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर आपने भारतीय मूल की इस वीरांगना के बारे में सचमुच बहुत खोज करके अनूठी जानकारी सामने रखी है. आभार!

Arvind Mishra said...

बहुत शोध परक ,ऐसाही एक रहस्यमय महिला चरित्र अभी पिछले वर्ष रिलीज फ़िल्म इंडियाना जोन्स में भी था !

P.N. Subramanian said...

ऐसी महान आत्मा के बारे में इतनी विस्तृत जानकारी के लिए आभार. अभी तो बहुत कुछ और पढ़ना है. उत्सुकता जाग गयी. अँग्रेज़ों के द्वारा टीपू की पत्नी से दो बच्चों को खींच कर ले जाते हुए एक पैंटिंग हमने देखी थी. वही आज यास आ रही है.

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

आप सभी को मेरे जाल घर पर
भारतीय गणतँत्र दिवस के शुभ अवसर पर
मेरी हार्दिक शुभ कामनाएँ तथा
हम जहाँ कहीँ भी रहेँ,
भारत की माटी से हमारे पूर्वजोँ के अणुओँ से निर्मित इस शरीर और आत्मा द्वारा सतत
अच्छे कार्य करने को प्रेरित रहेँ
हर देश के लिये अच्छा सोचेँ और करेँ
यही मेरी अभिलाषा है
जिस मेँ आप का
सहकार और साथ भी शामिल है
ये विश्वास भी है
"ॐ.. सर्वे भवन्तु सुखिन"

- लावण्या

mamta said...

वाकई राज कुमारी नूर के बारे इतनी विस्तृत जानकारी देने के लिए आपका जितना शुक्रिया अदा किया जाए वो कम है ।

आपको और आपके परिवार को गणतंत्र दिवस की शुभकामना ।

अल्पना वर्मा said...

राज कुमारी नूर के बारे में इतनी अद्भुत जानकारी पा कर मैं आप की आभारी हूँ.
टीपू सुलतान की padpoti हैं यह भी आप ने बता दिया-
सच में कितने ऐसे नाम हैं जो हर भारतीय को जानने चाहिये मगर हम अनजान हैं.
आप ने आज यह नायाब जानकारी दी आप को धन्यवाद.

आपको एवं आपके परिवार को गणतंत्र दिवस पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

डॉ .अनुराग said...

इतिहास के इस अभूतपूर्व चरित्र से मिलवाने के लिये शुक्रिया .ऐसे कितने चरित्रों से अनजान है हम लोग.....

ताऊ रामपुरिया said...

पिछले आधे घंटे से पढ रहा हूं. आज आपकी इस पोस्ट मे इस कदर खोया कि सब कुछ पढने का मन हो आया, लिंक भी यहीं से खोल कर देखे, फ़िर भी बहुत कुछ बच ही गया. उनको सेव कर लिया है.

बस इतना ही कहुंगा कि इस नायाब जानकारी के लिये आपको बहुत धन्यवाद और आपका आभार.

रामराम.

pran said...

PRIY LAVANYA JEE,
EK PET KEE BHOOKH HOTEE
HAI AUR DOOSREE ATMA KEE.AAPKE
LEKH KEE JAAKAAREE KUCHH AESEE
HAI JISE PADHKAR ATMA TRIPT HO
GAYEE HAI.

विवेक सिंह said...

वाकई राज कुमारी नूर के बारे इतनी विस्तृत जानकारी देने के लिए आपका जितना शुक्रिया अदा किया जाए वो कम है ।

राज भाटिय़ा said...

आपको को गणतंत्र दिवस की शुभकामना ।
धन्यवाद इस अच्छी जान्कारी के लिये , मे यहां ढुढता हुं इस बारे ओर जानकारी मिली तो.

Vivek Gupta said...

नायाब जानकारी के लिये आपको बहुत धन्यवाद और आपका आभार | गणतंत्र दिवस पर आपको एवं आपके परिवार को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं |

अभय तिवारी said...

कैसे-कैसे प्रेरक चरित्र हैं इतिहास में जिन से अनजान हैं हम.. आप ने परिचय कराया.. शुक्रिया!

अभिषेक ओझा said...

ढेर सारी रोचक जानकारी... आभार !

seema gupta said...

राज कुमारी नूर के बारे इतनी विस्तृत जानकारी के लिए आभार.....सच कहूँ तो हमने तो नाम भी नही सुना था इनका....

Regards

hem pandey said...

बढिया जानकारी के लिए साधुवाद.

गौतम राजरिशी said...

अद्‍भुत जानकारी है ये तो मैम....

बहुत-बहुत शुक्रिया