Wednesday, December 10, 2008

मातृभूमि पर शीश चढाने, जिस पथ जाएँ वीर अनेक

कहते हैँ सच्चा बहादुर वही होता है जो दूसरोँ के प्रति मृदु व्यवहार करना जानता हो !
ईश्वर की ओर उठा हुआ हाथ
मनुष्य की आत्मा से उठती पुकार है .....प्रभू , थाम लो हाथ !
मुम्बई शहर को आतंक से मुक्ति दिलवा कर , बस पे सवार हो , वहाँ से , जाते हुए वीर बहादुर सैनिक , दबी हुई मुस्कान लिए, गुलाब के फूल थामे, विक्टरी या विजय की निशानी दिखाते हुए , हाथ हिलाते चले गए .....वही कविता याद दिलाते हुए,
" उस पथ पर तुम देना फेंक
मातृभूमि पर शीश चढाने,
जिस पथ जाएँ वीर अनेक,
चाह नहीं मैं, सुर बाला के,
गहनों में गूंथा जाऊं "
श्री। माखन लाल चतुर्वेदी जी की अमर पंक्तियाँ ही सही भाव प्रकट करने में सक्षम हुई हैं !
हम भारत के जाँबाज सिपाहीयों को सलाम करते हैं ..

"शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मरने वालों का यही बाकी निशाँ होगा "

"कुछ याद उन्हें भी कर लो,
जो लौट के घर ना आए ....
जो लौट के घर ना आए ......."
कृपया क्लीक करें नाम पढने के लिए
अमर शहीदों को सलाम कीजिये ......

वंदे मातरम !!

"अब कोई गुलशन ना उजडे , अब वतन आजाद है .....
हरेक भारत माँ के सपूत को भारत माँ की रक्षा करने का प्राण पण से निश्चय करना होगा .....देश की भूमि आपको पुकार रही है ,
आगे बढो ,
भारत माता तुझे , शत शत नमन है !





25 comments:

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

इस से सुंदर उपहार और श्रद्धाजंली हो ही नहीं सकती।

Udan Tashtari said...

शत शत नमन ..

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

देश के रखवालों को प्रणाम!

MANVINDER BHIMBER said...

" उस पथ पर तुम देना फेंक
मातृभूमि पर शीश चढाने,
जिस पथ जाएँ वीर अनेक,
चाह नहीं मैं, सुर बाला के,
गहनों में गूंथा जाऊं "
श्री। माखन लाल चतुर्वेदी जी की अमर पंक्तियाँ ही सही भाव प्रकट करने में सक्षम हुई हैं !
शत शत नमन

कविता वाचक्नवी said...

हम भी इस "पुष्प की अभिलाषा" में अपनी भावना मिलाते प्रणाम निवेदित करते हैं उन्हें-

चाह नहीं मैं सुरबाला के गहनों में गूँथा जाऊँ
चाह नहीं प्रेमी माला में बिंध प्यारी को ललचाऊँ
चाह नहीं सम्राटों के शव पर, हे हरि डाला जाऊँ
चाह नहीं देवों के सिर पर चढ़ूँ भाग्य पर इतराऊँ

मुझे तोड़ लेना बनमाली
उस पथ पर तुम देना फेंक
मातृभूमि पर शीश चढ़ाने
जिस पथ जावें वीर अनेक

ताऊ रामपुरिया said...

शहीदों को श्रद्धांजलि ! आपके ब्लॉग पर रूटीन से हटकर सामग्री रहती है ! प्रस्तुति करण को तो मैंने लावण्या जी ब्रांड पहले से ही कहना शुरू कर दिया था ! आपके प्रस्तुतीकरण में भी एक विशेषता होती है !

मुम्बई काण्ड के शहीदों की लिस्ट ब्लागजगत में इतनी श्रद्धा पूर्वक इसी ब्लॉग पर दी गई है मेरी जानकारी में ! इन वीर शहीदों को श्रद्धांजलि का मौका देने के लिए आपको भी नमन !

रामराम !

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

शहीदों को नमन . श्रद्धांजलि

कंचन सिंह चौहान said...

भारत माता तुझे , शत शत नमन है !
वंदे मातरम

डॉ .अनुराग said...

आप सचमुच एक ऐसी महिला है जो देश से दूर रहकर भी ,उन जमीनी हकीक़तो ओर त्रासदियों के साथ मन से जुड़कर उन दर्दो को शिद्दत से महसूस करती है ....जिनसे आज कई लोग गुजर रहे है .....आप जैसे लोग विदेश में रहकर भी भारत का सर ऊँचा उठाये रखते है.....इन शहीदों की कुर्बानी की कीमत अगर ये देश समझेगा तो हर हिन्दुस्तानी अब एक बेहतर नागरिक बनेगा .....बेहतर इंसान बनेगा......अगर हमें उन्हें सच्ची श्रान्दजली देनी है तो यही करके दिखाना होगा ...सवाल पूछने के अलावा हमारा कर्तव्य भी कही बनता है

नीरज गोस्वामी said...

उस पथ पर तुम देना फेंक
मातृभूमि पर शीश चढाने,
जिस पथ जाएँ वीर अनेक,
चाह नहीं मैं, सुर बाला के,
गहनों में गूंथा जाऊं "
ये काल जई पंक्तियाँ हैं ...कभी पुरानी नहीं पड़ेंगी...
वंदे मातरम्...
नीरज

सुनीता शानू said...

आपको बहुत-बहुत शुक्रिया इतनी दूर होते हुए भी आप कितनी पास हैं अपने वतन के...

रंजना said...

भारत माता के सच्चे सपूतों को शत शत नमन .आपकी श्रद्धा और इस सुंदर अभिव्यक्ति को भी हम नमन करते हैं.

Rohit Tripathi said...

shat shat naman.. Jai Hind

New Post :- एहसास अनजाना सा.....

अभिषेक ओझा said...

शहीदों को नमन... श्रद्धांजलि !

Alag sa said...

देश के बेशकीमती हीरे जिन पर देशवासियों को नाज़ था, है और सदा रहेगा।

pintu said...

kya bat hai!is se sundar uphar or shrdhanjli or kya ho sakti hai! http://pinturaut.blogspot.com/'http://janmaanas.blogspot.com/

राज भाटिय़ा said...

भारत मां के इन वीर सपुतो को हमारा भी शत शत नमन.
आप का धन्यवाद

अल्पना वर्मा said...

देश के रखवालों को शत शत नमन.
शहीदों को श्रद्धांजलि.

Mired Mirage said...

ये चित्र तो स्मृति पटल पर खुद गए हैं ।
घुघूती बासूती

वर्षा said...

यही हैं हमारे असली हीरो।

निरन्तर - महेंद्र मिश्रा said...

शहीदों को नमन

प्रवीण त्रिवेदी...प्राइमरी का मास्टर said...

यही हैं हमारे असली हीरो!!!!!!!!!


प्राइमरी का मास्टर का पीछा करें

Manish Kumar said...

देश के रखवालों को नमन !

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

आप सभी की टीप्पणियोँ का बहुत बहुत आभार्
- लावण्या

निर्मला कपिला said...

सभी शहीदों को मेरा शत शत नमन।