Thursday, April 24, 2008

मेरे गीत बडे हरियाले : . पँ. नरेन्द्र शर्मा

मेरे गीत बडे हरियाले,
मैने अपने गीत,
सघन वन अन्तराल से
खोज निकाले
मैँने इन्हे जलधि मे खोजा,
जहाँ द्रवित होता फिरोज़ा
मन का मधु वितरित करने को,
गीत बने मरकत के प्याले !
कनक - वेनु, नभ नील रागिनी,
बनी रही वँशी सुहागिनी
-सात रँध्र की सीढी पर चढ,
गीत बने हारिल मतवाले !

देवदारु की हरित शिखर पर
अन्तिम नीड बनायेँगे स्वर,
शुभ्र हिमालय की छाया मेँ,
लय हो जायेँगे, लय वाले !

[ स्व. पँ. नरेन्द्र शर्मा ]

सुनिए ये गीत : "तुम आशा, विश्वास हमारे "

Tum Asha Vishwas Hamare

गायिका : : Lata

शब्द : Narendra Sharma

9 comments:

Manish said...

शुक्रिया इस कविता को यहां बाँटने के लिए !

Lavanyam - Antarman said...

आपको पसँद आयी मनीष भाई साथ जो गीत रखा है "सुबह" फिल्म का उसे भी सुनियेगा ~~
" तुम आशा विश्वास हमारे "

राकेश खंडेलवाल said...

देवदारु की हरित शिखर पर
अन्तिम नीड बनायेँगे स्वर,
शुभ्र हिमालय की छाया मेँ,
लय हो जायेँगे, लय वाले !

यह कल भी था शाश्वत जितना
उतना ही यह आज हुआ है
पंडितजी ने लिखे शब्द जो
उनने हर दिन मुझे छुआ है

Harshad Jangla said...

Lavanya Didi
Very nice poem by Papaji.
I need to know the meaning of:Firoza,markat,Randhra,Need.
Thanx & Rgds.
-Harshad Jangla
Atlanta, USA

दिनेशराय द्विवेदी said...

बचपन और किशोरावस्था के सपनों में पहुँचा दिया इस कविता ने।

Lavanyam - Antarman said...

रससिध्ध कविवर श्री राकेश जी ,
आपकी पँक्तियाँ सहेज रही हूँ बहुत ही सुँदर हैँ सदा की भाँति
स स्नेह्,
- लावन्या

Lavanyam - Antarman said...

Harshad bhai ,
Firoza =is, Turquoise Gem stone
markat = is Corals ,
Randhra = the Chakras as steps in human body as the YOG teaches which are like steps.
Need = is NEST
hope this helps - thank you for your interest + kind comments.
warm rgds,
L

Gyandutt Pandey said...

फिरोज़ा - यह शब्द स्पष्ट नहीं हो रहा था। आपकी टिप्पणी ने स्पष्ट कर दिया। धन्यवाद।

Lavanyam - Antarman said...

फीरोज़ा नाम भी होता है कइयोँ का - आप्ने सुना ही होगा ज्ञान भाई साह्ब
स स्नेह्,
लावन्या