Wednesday, June 11, 2014

वर्षा ~~ मंगल

Photo: After the Rain 1962
Haren Das (1921-1993)
Etching and Aquatint on paper
8.5 X 13.0 in.(21.6 X 33.0 cms)

गीतकार : पंडित नरेंद्र शर्मा 

गायक : महेंद्र कपूर 
राग : कलावती 



र्षा ~~ मंगल 

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
सत रंग चूनर नव रंग पाग 
मधुर मिलन त्यौहार गगन में 
मेघ सजल बिजली में आग ...
सत रंग चूनर नव रंग पाग !
पावस ऋतु नारी, नर सावन 
रस रिमझिम संगीत सुहावन 
सारस के जोड़े सरवर  में 
सुनते रहते बादल राग  …
सत रंग चूनर नव रंग पाग !

उपवन उपवन कांत कामिनी 
गगन गुंजाए मेघ दामिनी 
पत्ते पत्ते पर हरियाली,
फूल फूल पर प्रेम पराग …  
सत रंग चूनर नव रंग पाग !

पवन चलाये बाण बूँद के 
सहती धरती आँख मूँद के
बेलों से अठखेली करते 
मोर मुकुट पहने बन बाग़  .... 
सत रंग चूनर नव रंग पाग ! 
चित्र : श्री अतुल तोलिया जी ( केनेडा )
संकलन - लावण्या शाह 
 - Lavanya

3 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...


बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (13-06-2014) को "थोड़ी तो रौनक़ आए" (चर्चा मंच-1642) पर भी होगी!
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

संजय भास्‍कर said...

बहुत ही खूबसूरत एवं सारगर्भित पंक्तियाँ हैं बहुत अच्छी रचना है ! शुभकामनायें स्वीकार करें !

अनूप शुक्ल said...

सुन्दर गीत।