Wednesday, June 11, 2008

गीत

"तेरे लिए -" रूप कुमार राठोड
Click : http://www.youtube.com/watch?v=BelGIttDvNw&feature=related
तेरे लिए : लता मंगेशकर , रूप कुमार राठोड :
जावेद अख्तर Singer :
Music Director : Late Madan Mohan ji :
Border - 1998
गीतकार :जावेद अख्तर गायक :रूपकुमार राठोड संगीतकार :अनू मलिक चित्रपट :बॉर्डर - 1998 का ये गीत मुझे बहुत पसंद है -- click :http://www।youtube.com/watch?v=UNo6T6_41kw

सुनिए :click : आंखों की गुस्ताखियाँ :

कविता कृष्णमूर्ति सुब्रह्मण्यम :

और

श्रेया घोषल की आवाज़ मुझे बहुत पसंद है -
" जादू है नशा है " ये गीत भी ...
- http://www.youtube.com/watch?v=DlUcooiKMPo&feature=related :

:श्रेया घोषल चित्रपट :जिस्म




16 comments:

Udan Tashtari said...

बहुत उम्दा.

Gyan Dutt Pandey said...

आपकी पसन्द में वास्तव में नफासत है। धन्यवाद लिंक्स के लिये!

Harshad Jangla said...

Nice links.
Thanx.

कुश said...

मेरा भी पसंदीदा गीत है

mehek said...

wah bahut khub

महामंत्री - तस्लीम said...

बहुत प्यारे गीत हैं। आपकी पसंद हमें भी पसंद आई।

Shiv said...

बहुत अच्छे गीत हैं...बहुत बढ़िया पसंद है. वाह!

बालकिशन said...

आभार.
आपके मनपसंद गीत सुनवाने के लिए धन्यवाद.
हमे भी अच्छे लगे.

mamta said...

सारे गीत एक से बढ़ कर एक लगे ।

वीर-जारा का गीत हमे बहुत पसंद भी है ।

Abhishek Ojha said...

वीर जरा वाला गीत तो मुझे भी बहुत पसंद है.

समयचक्र said...

बहुत प्यारे पसंदीदा गीत हैं ,,,...

समयचक्र said...

बहुत प्यारे पसंदीदा गीत हैं ,,,...

डॉ .अनुराग said...

बहुत उम्दा.

पारुल "पुखराज" said...

dil me magar jaltey rahey chaahat ke diye terey liye...didi mai aaj subah se ye geet anayaas hi gungunaa rahi huun

pallavi trivedi said...

ye saare gaane mujhe bhi behad pasand hain...

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

समीर भाई ,
ज्ञान भाई साहब,
Harshad bhai,
कुश जी,
Mehek ji,
महामँत्री (तस्लीम),
शिव भाई,
बाल कीशन जी,
ममता जी,
महेन्द्र जी,
अभिषेक भाई,
अनुराग भाई,
पारुल्,
पल्ल्लवी जी

शुक्रिया ~~~
मेरे पसँदीदा गीत आपको भी प्रिय हैँ ये इस बात को प्रुव करता है कि, अच्छी चीज सभी को अच्छी लगतीँ हैँ फिर वो कला हो सँगीत या इन्सान !
Isn't it ? :)
Thanx ...& warm regards to Every one for visiting &
gracefully writing your very kind comments.
affectionately,
-Lavanya